2
Advertisement

श्रृंगार रस की कविता की ताकत

मेरी श्रृंगार रस की
कविता सुनकर
एक युवती पिघल गई
घर बार छोड़कर
मेरे घर आ गई
आपकी कविता मुझको भा गई
मन समर्पित,तन समर्पित
आप सादर स्वीकार करें
मैं कई कवियों को
ठुकरा के आई हूँ
मेरे नयन
मेरे होठों की नरमी से
आपकी श्रृंगार रस की कवितापरिपक्व होगी
कहाँ से आई मुसीबत
मैं तो काका की कविता
चुरा के सुनाई थी
बड़ी ढीठ थी
वह मेरे करीब बैठ गई थी
नयनों से घूर रही थी
श्रृंगार रस मुझे पिला रही थी
अब समझा
श्रृंगार रस की कविता की ताकत
मेरा घर बार उजाड़ रह थी

(2)


बन गया कवि

घर बार बेंचकर
पत्नी मायके भेजकर
बन गया कवि
विरह वेदना में लगा जलनें
वियोग का बना कवि
किसी कविता पर
एक फूटी कौड़ी न मिली
जूता फटा है
मोजा फटा है
तीन दिन से भूखा सो रहा हूँ
सारा नशा गया उतर
कवि नहीं बनूँगा
यह धंधा बहुत खोटा है
कवि खुद मरा है
दूसरों को क्या उबारेगा.

यह रचना जयचंद प्रजापति कक्कू जी द्वारा लिखी गयी है . आप कवि के रूप में प्रसिद्ध हैं . संपर्क सूत्र - कवि जयचन्द प्रजापति 'कक्कू' जैतापुर,हंडिया,इलाहाबाद ,मो.07880438226 . ब्लॉग..kavitapraja.blogspot.com

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top