2
Advertisement

उठो

उठो
समय आया है
नव नभ में उड़ने की
नया बेला में
नव उपवन में
लिखो नया सबेरा
नई किरण
नई आशा का
नव संचार करो
कहते जाओ
बहते जाओ

धीर धरो
लग जाओ
मंजिल पाने में
मेहनत करते जाओ
रूकना नहीं
थकना नहीं
टूटना नहीं
संबल बनना तुम
पा लेना
चरम सौन्दर्य को
यही अभिलाषा हो

(2)

लिखो खत

.............
लिखो खत
देश को
करो सलाम
कहो
मैं आता हूँ
तेरी सेवा करने

जब तक साँस रहे
जी भर
दम भर
लड़ूँगा
लिखना
सवा सौ करोड़
देशवासियों को
करो प्रणाम सबको

गिरने न दूँगा
झूकने न दूँगा
आन बान को
नया शान दूँगा
लिखना खत माँ को
कहना जा रहा हूँ
होने बलिदान
देश के लिये

(3)

मेरी माँ

.........

मेरी माँ
उठ सुबह
लग जाती कामों में
जयचन्द प्रजापति 'कक्कू जी"
जयचन्द प्रजापति 'कक्कू जी"
जी भर करती
सुबह से शाम तक
लगी रहती है
चूल्हा चौका में
गायों  के सानी पानी में
साफ सफाई में
कपड़े लत्ते में

कम सोती है
नींद नहीं आती है
खेतो खलिहानों में
भूसा दाना में
पल्लू खोंसे
पसीनें में
सूखे होंठ लिये
करती जाती
कहती जाती
कहना है उसका
कल नया सबेरा आयेगा

---------------------

यह रचना जयचंद प्रजापति कक्कू जी द्वारा लिखी गयी है . आप कवि के रूप में प्रसिद्ध हैं . संपर्क सूत्र - कवि जयचन्द प्रजापति 'कक्कू' जैतापुर,हंडिया,इलाहाबाद ,मो.07880438226 . ब्लॉग..kavitapraja.blogspot.com

एक टिप्पणी भेजें

  1. आपकी ब्लॉग पोस्ट को आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रस्तुति सांख्यिकी दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ... अभिनन्दन।।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top