0
Advertisement

सिंहस्थ 2016 - क्या खोया क्या पाया 

महाकाल जिनकी उत्पत्ति स्वयंभू मानी है सनातन ने,ये अजन्में हैं,इनकी मृत्यु नहीं होनी न आदि है न अंत,महाकाल का मंदिर आदि नगरी अवन्ती या आज उज्जैन में अवस्थित है। उज्जयिनी अपने नाम के अनुरूप वास्तविक अर्थों में विजयिनी है। संस्कृत, पाली और प्राकृत साहित्य के उल्लेखों का ऐतिहासिक, धार्मिक, शैक्षणिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और व्यापारिक दृष्टिकोण से अध्ययन करने पर प्रतीत होता है कि भारतीय संस्कृति में समाहित भारत के विभिन्न प्रदेशों की संस्कृतियों का यहाँ पर जन्म हुआ था।सिंहस्थ कुम्भ महापर्व एक विशाल आध्यात्मिक आयोजन है, जो मानवता के लिए जाना जाता है। इसके नाम की उत्पत्ति ‘अमरत्व का पात्र’ से हुई है। पौराणिक कथाओं में इसे ‘अमृत कुण्ड’ के रूप में जाना जाता है।कलश प्राप्त करने में संघर्ष में अमृत की कुछ बूँदे पृथ्वी पर हरिद्वार, प्रयाग, उज्जैन और नासिक में गिर गयीं। ये बूंदें गंगा, यमुना, गोदावरी और क्षिप्रा नदियों में मिल गयीं, जिससे इन नदियों के जल में आध्यात्मिक और अतुलनीय शक्तियाँ उत्पन्न हो गयीं।
माधवे धवले पक्षे सिंह जीवत्वेजे खौ।
तुलाराशि निशानाथे स्वातिभे पूर्णिमा तिथौ।
व्यतीपाते तु सम्प्राप्ते चन्द्रवासर-संचुते।
कुशस्थली-महाक्षेत्रे स्नाने मोक्षमवाच्युयात्।
अर्थात् जब वैशाख मास हो, शुक्ल पक्ष हो और बृहस्पति सिंह राशि पर, सूर्य मेष राशि पर तथा चन्द्रमा तुला राशि पर हो, साथ ही स्वाति नक्षत्र, पूर्णिमा तिथि व्यतीपात योग और सोमवार का दिन हो तो उज्जैन में शिप्रा स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।
कुम्भ मेले की परम्परा कब से शुरू हुई इसके विषय में बहुत सारे अभिमत हैं लेकिन आदिशंकराचार्य ने फिर से इस परम्परा को आगे बढ़ाया। वैदिक संस्कृति में जहां व्यक्ति की साधना, आराधना और जीवन पद्धति को परिष्कृत करने पर जोर दिया है, वहीं पवित्र तीर्थस्थलों और उनमें घटित होने वाले पर्वों व महापर्वों के प्रति आदर, श्रद्धा और भक्ति का पावन भाव प्रतिष्ठित करना भी प्रमुख रहा है। विश्व प्रसिद्ध सिंहस्थ महाकुंभ एक धार्मिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महापर्व है, जहां आकर व्यक्ति को आत्मशुद्धि और आत्मकल्याण की अनुभूति होती है।
अमृत के इस मेले यानी आस्था के इस महाकुंभ का बदलता स्वरूप जिसने विचार मंथन की आवश्यकता को एक नई दिशा दी।धर्म तो सबका एक ही है- मानव धर्म। सम्प्रदाय हमारे यहां ही हजारों हैं। धर्म जहां ज्ञान, वैराग्य, ऐश्वर्य तथा अर्थ, काम, मोक्ष का आधार है, मुक्त करता है, वहीं सम्प्रदाय बांधता है। यह हमारा दुर्भाग्य है कि इस देश के संविधान को धर्मनिरपेक्ष बनाकर धर्म को जीवन से बाहर कर दिया। यही कारण है कि आज वेद, पुराण, उपनिषद् आदि सभी साम्प्रदायिक कहलाने लग गए।
सौजन्य चित्र - पत्रिका.कॉम 
सिंहस्थ की उपलब्धियों को लेकर चौहान का जनता की अदालत में जाना तय है तो विकास की आड़ में भ्रष्टाचार का भी एक मुद्दा बनना तय है।शिवराज की साख से जुड़ गए इस आयोजन ने मुख्यमंत्री को किस हद तक मजबूत और उनकी लोकप्रियता विशुद्ध राजनीति के मोर्चे पर भविष्य में क्या गुल खिलाएगीये तो कालांतर में समय क गर्भ में छुपा क रहस्य है लेकिन आध्यात्मिक वैभव के साथ संपन्न हुए सिंहस्थ 2016 ने एक ऐसी लकीर खींच दी है जिसे मिटाना तो दूर छोटा साबित करना भी किसी दूसरे मुख्यमंत्री के लिए आसान नहीं होगा। चाहे फिर वो सभी अखाड़ों से जुड़े साधु-संतों को क्षिप्रा के तट पर एक साथ स्नान कराना हो या फिर सार्वजनिक मंचों पर उनकी मौजूदगी सुनिश्चित कर एकजुटता का संदेश दिलवाना हो…यही नहीं समन्वय, सामंजस्य के साथ दूरदर्शिता का लोहा मनवाकर सिंहस्थ को भव्य स्वरूप देना ही नहीं बल्कि परंपराओं की बेड़ियों से कुछ कदम ही सही बाहर निकालकर वैचारिक धरातल पर एक नई बहस छेड़ना ही क्यों न हो। अंतिम शाही स्नान का वो नजारा देखने लायक था जब पहली बार शैव और वैष्णव अखाड़ों ने एक साथ पवित्र क्षिप्रा नदी में पावन डुबकी लगाई। मुद्दा धर्म, आस्था, परंपरा से जुड़ा है लेकिन इसका मूल्यांकन जब भी किया जाएगा तो सियासत के पहलुओं को नजरअंदाज करना किसी के लिए आसान नहीं होगा। सिंहस्थ का आगाज भले ही भीड़ के मापदंड और अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं हुआ था लेकिन समापन ने जो सुर्खियां बटोरी वो उसकी सफलता को बयां कर गया। मोक्षदायिनी क्षिप्रा के सभी तटों पर अंतिम शाही स्नान में डुबकी के लिए उमड़े जनसैलाब से जो तस्वीर उभरकर सामने आई उसने अभी तक के सभी रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए। 
सामाजिक संगठनों द्वारा सिंहस्थ के दौरान घाटों पर लगभग 300 चेंजिंग-रूम, 1500 प्याऊ, 5000 डस्टबिन, 65 हजार केरी-बेग, 5000 स्वयं सेवक, 160 एलईडी स्क्रीन, 500 पेपर बेग, 10 हजार स्वच्छता पर केंद्रित साइन-बोर्ड, 600 नक्शे, 25 हजार वर्ग फीट पर वाल पेंटिंग, 100 स्वागत-द्वार, 2500 लाइफ जैकेट, 651 सहायता केंद्र, 459 खोया-पाया केंद्र, 200 आसमानी गुब्बारे, 1000 मोबाइल चार्जिग प्वाइंट, पांच लाख थैले (दुकानदारों के लिए) और शासकीय सेवकों के लिए 20 हजार जैकेट की व्यवस्था की। ये आकंडे बताते हैं की सिंहस्थ सिर्फ सरकारी व्यवस्थाओं के बल पर संपन्न नहीं हुआ बल्कि समाज के सभी वर्गों ने इस महा आयोजन में सहयोग दिया है। उज्जैन में सिंहस्थ के लिए करीब 30,000 से ज्यादा का ‪पुलिसबल‬ और ‪BSFबल‬ बाहर से आया है।अपने घर से दूर यहां यह लोग करीब 2 महीने से ज्यादा से कार्य कर रहे है।  वह भी 18-20 घण्टे रोज़. ना खुद की चिंता न खाने की फ़िक्र. बस उद्देश्य यही की यहां आये किसी भी श्रद्धालुओं को ‪कोई परेशानी न हो‬।
प्रधानमंत्री इस आयोजन से अभिभूत थे उन्होंने अपने भाषण में कहा "सिंहस्थ कुंभ इतने बड़े देश को एकरूपता में समेटने का प्रयास करता है। यह भारत की हजारों साल पुरानी संस्कृति को दिखाता है। परंपराएं पूरे प्राण के साथ कायम रहनी चाहिए। कर्म ही हमारा योग है। कर्म करने वाला नर ही नारायण बनता है। कुंभ का मेला वैसे 12 साल में एक बार होता है। कहीं-कहीं 3 साल में होता है। कुंभ की परंपरा कैसे प्रारंभ हुई होगी इस बारे में अलग-अलग मत प्रचलित है लेकिन इतना निश्चित है कि ये परंपरा मानव जीवन की सांस्कृतिक यात्रा की पुरातन व्यवस्था में से एक है। "
51 सूत्रीय सार्वभौम संदेश जारी कर सिंहस्थ की विचार परंपरा को पुनर्जीवित करने का मकसद साफ कर आयोजनकर्ता की कमान संभालकर शिवराज ने जिस तरह पर्दे के पीछे संघ को साधा और सार्वजनिक तौर पर पीएम मोदी को इसकी तारीफ करने को विवश  किया वो गौर करने लायक है जो उनकी बौद्धिक क्षमता ही नहीं समाज के उत्थान के प्रति संजीदगी को रेखांकित करने के साथ जवाबदेही का भी अहसास करा गया। ‘अतिथि देवो भवः’ की परंपरा को निभाते हुए बतौर सीएम शिवराज ने जिस तरह साधु संतों से लेकर आध्यात्म गुरु और कथावाचकों के साथ सियासतदारों का भरोसा जीता उसे भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। 
अधिकांश भारतीय पर्वों में लोकरंजन ही नहीं लोककल्याण का भाव भी निहित होता है और इस कुम्भ के
सुशील कुमार शर्मा
सम्बन्ध में भी श्रद्धालुओं का यही मत है कि कुंभ के स्नान से मानव के दोष तो मिटते ही हैं, संसार की विपत्तियों का भी नाश होता है। धर्म के नाम पर जातीय राजनीति भी होने लगी। धार्मिक आयोजनों में संविधान के विरुद्ध राजनीति प्रवेश कर गई। नेता और सन्त एक जैसे हो गए। दोनों के बीच अन्तर घट रहा है। दोनों ही लेने वाले हो गए, देना भूल गए। संवेदनाएं पलायन करने लगीं। व्यापार रह गया। सन्त भी सौदा करने लगे। साधु-साध्वियों का मीडिया रिकॉर्ड प्रमाण है।लोकतंत्र एवं सम्प्रदायों के उत्तरदायित्व का बोध लुप्त हो रहा है। देश में लाखों सन्त होने के बाद भी कहीं धर्म दिखाई नहीं दे रहा। क्या सन्तों की सार्थकता इस ह्रास में ही है। आज जो सम्प्रदाय में बड़े सन्त करें, वही धर्म हो गया। कुंभ के बाद सभी सन्त अपने-अपने टोले के साथ आशीर्वाद में हाथ उठाकर चले जाएंगे। मेजबान समाज-प्रदेश ने क्या खोया-क्या पाया यह तो चर्चा में भी नहीं आएगा। कुंभ में भी यदि कुछ असहनीय होता है तो वह सन्तों का व्यवहार। शाही स्नान के लिए तलवारें-बर्छे चलना यानी युद्ध का सा दृश्य। क्या यह साधुत्व है? रियासत काल में सुरक्षा कर्मी अखाड़ों से जुड़े थे। वे ही आज साधु हो गए। हथियार नहीं छूटे।महाकुंभ जैसे धार्मिक समागमों के अवसर पर जहां जातिगत भेदभाव की परवाह किए बिना हज़ारों वर्षों से भक्तजन डु़बकी लगाते आ रहे हैं, जिस साधु समाज में सैकड़ों दलित माता-पिता से पैदा हुए लोग साधू बनकर उच्च पदों पर आसीन हैं, कथावाचक व गद्दीनशीन बने हुए हैं यहां तक कि मुस्लिम परिवार में पैदा हुए कई लोग हिंदू धर्माेपदेशक,संत व प्रवचनकर्ता के रूप में अपना विशिष्ट स्थान बनाए हुए हैं। ऐसे महाकुम्भ को जातिगत बनाना क्या राजनीति की मज़बूरी है ?।
सिंहस्थ महाकुंभ हिंदू धर्म में भिन्नता और जोश का जबरदस्त प्रदर्शन है। ये राजनीतिक उपदेश और व्यापार का महत्वपूर्ण स्थान है, लेकिन कुंभ मेले में करोड़ों लोगों के आने का मुख्य कारण है, विश्वास, जिसके कारण वो इस की ओर खिंचे चले आते हैं। 

यहं रचना सुशील कुमार शर्मा जी द्वारा लिखी गयी है . आप व्यवहारिक भूगर्भ शास्त्र और अंग्रेजी साहित्य में परास्नातक हैं। इसके साथ ही आपने बी.एड. की उपाध‍ि भी प्राप्त की है। आप वर्तमान में शासकीय आदर्श उच्च माध्य विद्यालय, गाडरवारा, मध्य प्रदेश में वरिष्ठ अध्यापक (अंग्रेजी) के पद पर कार्यरत हैं। आप एक उत्कृष्ट शिक्षा शास्त्री के आलावा सामाजिक एवं वैज्ञानिक मुद्दों पर चिंतन करने वाले लेखक के रूप में जाने जाते हैं| अंतर्राष्ट्रीय जर्नल्स में शिक्षा से सम्बंधित आलेख प्रकाशित होते रहे हैं |
 अापकी रचनाएं समय-समय पर देशबंधु पत्र ,साईंटिफिक वर्ल्ड ,हिंदी वर्ल्ड, साहित्य शिल्पी ,रचना कार ,काव्यसागर, स्वर्गविभा एवं अन्य  वेबसाइटो पर एवं विभ‍िन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाश‍ित हो चुकी हैं।
आपको विभिन्न सम्मानों से पुरुष्कृत किया जा चुका है जिनमे प्रमुख हैं :-
 1.विपिन जोशी रास्ट्रीय शिक्षक सम्मान "द्रोणाचार्य "सम्मान  2012
 2.उर्स कमेटी गाडरवारा द्वारा सद्भावना सम्मान 2007
 3.कुष्ट रोग उन्मूलन के लिए नरसिंहपुर जिला द्वारा सम्मान 2002
 4.नशामुक्ति अभियान के लिए सम्मानित 2009
इसके आलावा आप पर्यावरण ,विज्ञान, शिक्षा एवं समाज  के सरोकारों पर नियमित लेखन कर रहे हैं |

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top