1
Advertisement

  शिक्षा की महानता

एक समय था कोसों दूर विद्यालय नहीं थे  I थे भी, दो- चार गाँवों के बीच I बच्चों को पढ़ने लिखने के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता I सुबह घर से पैदल निकलना,शाम तक घर पहुँचना I
       समय के साथ सब बदल गया परेशानियाँ दूर होती चलीं गईं I अब विद्यालयों की भरमार है गली गली में I आने ले जाने के लिए वाहनों की भी कोई कमी नहीं है I ढेरों सुविधाएँ आज के विद्यालय उपलब्ध करा रहे हैं ताकि बच्चे शिक्षा ग्रहण कर सकें I
       मैं रास्ते से गुजर ही रहा था कि एक बच्चा करीब आठ साल का धूल में लिपटा चिलचिलाती धूप में खेल रहा I वह इतना मस्त था कि धूप धूप उसके लिए कुछ भी नहीं I  मेरा पसीने से बुरा हाल हुआ जा रहा I
       "बेटा तुम इतनी धूप में खेल रहे हो ,धूप नहीं लगती I "
       "लगती है अंकल, पर खेल में मजा आता है I "   
       "अच्छा ये बताओ ,पढ़ने नहीं जाते हो I "
       "नहीं अंकल I "
       "क्यों ?"
       "क्योंकि ?मेरे पापा के पास इतने पैसे नहीं हैं I
       "अच्छा तुम्हारे पापा क्या करते हैं I "
       "अंकल वो मजदूरी करते हैं I "
       "तो बीड़ी  तम्बाकू  भी पीते होंगें I "
       "तुमको कैसे पता अंकल ,मेरे पिता दिन भर में ढेरों बण्डल फूँक देते हैं I "
        मुझे बच्चे की बात का बुरा नहीं लगा किन्तु उसका पिता ढेरों बीड़ियाँ तम्बाकू हजम कर जाते हैं ,अपने बच्चे को नहीं पढ़ा सकते I ये बात मेरे दिमाग में दौड़ गई I बीड़ी तम्बाकू से कई गुना सस्ती है हमारी पढाई I अगर हिसाब लगाए जाए साल भर में हजारों रुपये यूँ हीं व्यर्थ बीड़ी तम्बाकू पर खर्च कर देते हैं जिसका कुछ भी हल नहीं I अगर पढाई का हिसाब लगाया जाय तो कही अधिक सस्ती है I आसानी से अपने बच्चों को पढ़ाया जा सकता है I
        हमें अपनी सोच बदलनी होगी हमें अपना पथ बदलना होगा तभी अपने  बच्चों को आगे बढ़ाया जा सकता है I विद्यालय शिक्षा ग्रहण करने का साधन है I मंदिर है I जिसमें सभी लोग माँ सरस्वती की पूजा करते हैं I उच्च वर्ग के लोग हों या निम्न वर्ग के ,समान अधिकार सबको है I
        मैं क्या बताऊँ अपनी शिक्षा के बारे में I घर से दूर एक विद्यालय हुआ करता था I सुबह विद्यालय जाना शाम को लौटना काफी मशक्कत की पढाई थी I रास्ता भी सूमसाम भरा डरावना, ऐसा लगता किस वीराने में हम जा रहे हैं I 
        पालकों को बच्चों की तरफ देखना चाहिए I शिक्षा से ही विकाश संभव है न कि अशिक्षा से I अशिक्षा अंधकार की  तरफ ले जाती है और शिक्षा उजाले की तरफ I आज के पढ़े लिखे बच्चे तुम्हारा नाम रौशन कर सकते हैं I दुनिया में पहचान दिला सकते हैं I
        सभी पढ़ेंगे, पढ़ा लिखा समाज होगा I विकाश होगा I खुद की प्रगति होगी देश महान बनेगा I अंधकार हटेगा प्रकाश की नई किरण झूमती दरवाजे पर दस्तक देगी I तब हम अव्वल होंगे I हर समस्या का समाधान खुद ही निकाल लेंगें I अच्छे बुरे की परख ,क्रूरता का निधन होगा I हम महान होंगे I  समाज महान होगा I  देश महान होगा I


यह रचना अशोक बाबू माहौर जी द्वारा लिखी गयी है . आपकी विभिन्न पत्र - पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित हो चुकी है . आप लेखन की विभिन्न विधाओं में संलग्न हैं . संपर्क सूत्र -ग्राम - कदमन का पुरा, तहसील-अम्बाह ,जिला-मुरैना (म.प्र.)476111 ,  ईमेल-ashokbabu.mahour@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहोठी बढ़िया लेख आज के युग में शिक्षा का काफ़ी महत्त्व हैं.शिक्षा नहीं तो सारा जीवन अंधकारमय होता हैं, इसलिए हर किसीने शिक्षा लेनी चाहिये.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top