1
 लौट आऊँगा मैं
लौट आऊँगा मैं

 1. लौट आऊँगा मैं क़लम में रोशनाई-सा पृथ्वी पर अन्न के दाने-सा कोख मेंजीवन के बीज-सा लौट आऊँगा मैं आकाश में इंद्रधनुष-सा धरती पर...

और जानिएं »

1
जिद्द बच्ची की
जिद्द बच्ची की

जिद्द बच्ची की   बच्ची दौड़कर अपने पापा से लिपट गई I मुँह मुरझाया सा लेकर I   "पप्पा मुझे वो गाड़ी दिलाओ न I "  "बेटी वो ...

और जानिएं »

2
भुल्लकड़ बेटा
भुल्लकड़ बेटा

भुल्लकड़ बेटा अश्विन गुप्ता वृद्धाश्रम में टेबल पर बैठ वो माँ चुपचाप खाना खाये जा रही थी । एक निवाला अपने गले से नीचे उतारती और पान...

और जानिएं »

2
अलार्म
अलार्म

अलार्म     दिन ठण्डा था। चार-पाँच महिलाएँ शर्मा जी की बैठक में बैठकर गपशप कर रही थीं। कुछ देर बाद मिसेज शर्मा चाय बना लाई। उन्होंने चाय ...

और जानिएं »

0
साहब ये सत्ता है
साहब ये सत्ता है

 साहब ये सत्ता है साहब ये सत्ता है अनुभव की स्याही से वक्त के पन्ने पर  कितना कुछ लिखते हैं हम और आप हम शब्दों से नाप लेते हैं पेट की ...

और जानिएं »

0
सब के लिए
सब के लिए

   सब के लिए बात इतनी पुरानी है कि वे शब्द , जो उसे बयान कर सकते , अब हर भाषा के शब्द-कोष से खो चुके हैं । बात इतनी नई है कि उसे बताने क...

और जानिएं »

3
मिडिया की छवि
मिडिया की छवि

मिडिया की छवि देश में,राज्य में,हमारे आस-पास,विदेशो में, और देश के कर्णधार नेताओं की छवि की जानकारी | ये सारी बातें आम आदमी जानता है मिड...

और जानिएं »

6
 गिल्ली गुम हो गयी !
गिल्ली गुम हो गयी !

 गिल्ली गुम हो गयी ! गर्मियों की छुट्टीयां आते ही सबसे पहला ख्याल जो बच्चो के मन में आता है वह है मामा के घर जाना खूब खेल कूद और मजे क...

और जानिएं »

1
 शिक्षा की महानता
शिक्षा की महानता

  शिक्षा की महानता एक समय था कोसों दूर विद्यालय नहीं थे  I थे भी, दो- चार गाँवों के बीच I बच्चों को पढ़ने लिखने के लिए काफी दिक्कतों का सा...

और जानिएं »

3
कर्फ्यू
कर्फ्यू

कर्फ्यू                 सर्वं भवन्तु सुखिन:                       सर्वं सन्तु निरामया:             सर्वं भद्राणि पश्यन्तु       ...

और जानिएं »

2
हंस चुगेगा दाना
हंस चुगेगा दाना

  हंस चुगेगा दाना दून का ........ 'परिवर्तन' प्रकृति का शाश्वत नियम है | यह मैं बचपन से सुनती,गुनती,और पढ़ती आई हूँ | मुझे लगता ह...

और जानिएं »

1
चीखों का उपहार
चीखों का उपहार

चीखों का उपहार भोर होने से पहले चैन से सोया पंछी आवारा कुत्तों का क्रंदन बादलों की ओट में छिपे तारे तेज़ी से सड़क की छाती रौंदती कार स...

और जानिएं »

2
अरी दादी
अरी दादी

अरी दादी बारात चलने वाली थी। मेहमान तैयार होकर धीरे-धीरे बाहर इकट्ठे हो रहे थे। बिट्टू को भी महंगा सूट पहनाकर सजा दिया गया। वह पिछले दो ...

और जानिएं »

0
जनरल डब्बा
जनरल डब्बा

  जनरल डब्बा जनरल डब्बे में खचाखच भीड़ थी I पाँव टिकाने के लिए कहीं पर भी जगह नहीं थी फिर भी लोग खड़े पिचके जा रहे I न जाने इतनी भीड़ आज ...

और जानिएं »

1
जागो मानव जागो
जागो मानव जागो

जागो मानव जागो... अब तक तो आप सब ने गौर कर ही लिया होगा कि इस बार सूर्यदेव कुछ ज्यादा ही कुपित हैं. गुस्सा किस पर है यह तो पता नहीं किंत...

और जानिएं »

1
वापसी कैसे ?
वापसी कैसे ?

वापसी कैसे ? संध्या जैसा नाम वैसी ही सुरमई शाम की तरह सुन्दर | जो भी उसे देखता वह बार-बार उसे देखने की चाहत रखता | खूबसूरती को देखना कौन...

और जानिएं »
 
 
Top