3
Advertisement

     होली रे होली

होली रे होली ,
        रंगों की गोली,
                  लाल,हरी ,
                        नीली,पीली,
                                 रंगों की झड़ी ,
                                           मार पिचकारी ,
                                                        अरे पकड़ी गई |
                                                         
            होली रे होली ....
                 देख वो पडोसी ,
                          आई चाची मामी,
                                         मुख पे मली,
                                                अरे गुलाल की लाली |
                       होली रे होली ...........
                              हुड़दंग मचाए,
                                          बस्ती में सारे ,
                                                    रोके न रुके ,
                                                              अरे आज हम सारे|
                                 होली रे होली .......

यह रचना जयश्री जाजू जी द्वारा लिखी गयी है . आप अध्यापिका के रूप में कार्यरत हैं . आप कहानियाँ व कविताएँ आदि लिखती हैं . 

एक टिप्पणी भेजें

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 25 मार्च 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद आपको मेरी स्वरचित रचना पसंद आई और आपने उसे अपने ब्लॉग में स्थान दिया | तहेदिल से आपका धन्यवाद |

      हटाएं
  2. सभी को होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top