11
Advertisement
संधि ( Sandhi or Combination of Letters ) 
दो वर्णों ( स्वर या व्यंजन ) के मेल से होने वाले विकार को संधि कहते हैं . संधि में कहीं एक अक्षर और कहीं दो अक्षरों में परिवर्तन होता है और वहां दोनों अक्षरों के स्थान पर नया तीसरा अक्षर  नए रूप में आ जाता है . इसी को संधि कहते हैं . उन पदों को मूल रूप में पृथक कर देना संधि विच्छेद है . जैसे -
विद्या + आलय = विद्यालय ( यह संधि है ) धनादेश = धन + आदेश ( यह संधि विच्छेद है )
भानु + उदय = भानूदय,
हिम + आलय = हिमालय .
राजा + इंद्र = राजेन्द्र ,
महा + ऋषि = महर्षि ,
लोक + उक्ति = लोकोक्ति .

संधि के भेद ( Kinds of Sandhi ) 
भेद - संधि तीन प्रकार की होती है :-
१. स्वर संधि  २ . व्यंजन संधि ३. विसर्ग संधि . 
संधि प्रकरण को आरम्भ करते समय हमें निम्नलिखित बातों पर ध्यान देना चाहिए -
१. स्वर दो प्रकार के होते है -
१. हस्व , २ . दीर्घ .

उदहारण - अ , आ हस्व स्वर हैं . ई , ए, ऐ,औ दीर्घ स्वर हैं .
२. अ , आ , हस्व व दीर्घ स्वर होते हुए भी समान स्वर हैं . इसी प्रकार ई , इ भी समान स्वर हैं .
३. बिना स्वर की सहायता के व्यंजन का उच्चारण नहीं हो सकता . व्यंजन के साथ स्वर छिपा रहता है . यथा ; क + अ = क .

स्वर संधि ( vowel sandhi ) - स्वर के साथ स्वर के मेल को स्वर संधि कहते हैं . जैसे - विद्या + अर्थी = विद्यार्थी  , सूर्य + उदय = सूर्योदय , मुनि + इंद्र = मुनीन्द्र , कवि + ईश्वर = कवीश्वर , महा + ईश = महेश .
स्वर संधि के भेद ( Kinds of Vowel Sandhi )
स्वर संधि के पाँच भेद हैं :-
१. दीर्घ संधि २. गुण संधि ३. वृद्धि संधि ४. यर्ण संधि ५. अयादी संधि ६. पूर्व रूप संधि .

व्यंजन संधि ( Combination of Consonants ) : - 
परिभाषा - व्यंजन के साथ स्वर या व्यंजन के मेल को व्यंजन संधि कहते है . जैसे - दिक् + अंत = दिगंत,
सत् + जन = सज्जन , उत् + ज्वल = उज्ज्वल , सत् + आनंद = सदानंद , उत् + गम = उद्गम , परि + छेद = परिच्छेद , आ + छादन = आच्छादन , वि + छेद = विच्छेद .

विसर्ग संधि ( Combination Of Visarga ) :- 
परिभाषा - विसर्ग के साथ स्वर अथवा व्यंजन के मिलने से जो विकार होता है , उसे विसर्ग संधि कहते हैं . जैसे - निः + रोग = निरोग . निः + संकोच = निस्संकोच , नमः + कार = नमस्कार , निः + तार = निस्तार , मनः + ताप = मनस्ताप , दुः + कर्म = दुष्कर्म , आवि : + कार = आविष्कार . 

एक टिप्पणी भेजें

  1. विस्तार नहीं किया।।।।।।।।।।।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. kaise pahchan karege ki ye swar sandhi hai ya koi or sandhi hai kripya vistar purwak bataye.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामीमई 01, 2017 12:51 pm

    har pariksa me kon shi books good he

    उत्तर देंहटाएं
  4. संधि को और डीप में बताओ

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्‍छा हैं बेरी बेरी नाईस

    उत्तर देंहटाएं
  6. मान्यवर आपके कई भागों में त्रुटियाँ हैं।
    मैं चाहूँगा हिंदी व्याकरण का विस्तार शुद्धरूपेण हो। उदरणार्थ- निः+रोग= नीरोग (निरोग गलत)
    नीलकमल= नीला है जो कमल
    दशमुख = द्विगु समास नहीं बहुव्रीहि समास
    कमलनयन = कर्मधारय नहीं बहुव्रीहि समास।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top