0
Advertisement


ऋषीमुख     (  कविता )
                                                      ......  क्षेत्रपाल शर्मा 

                         गिरि ,  हां,   ये  कां‍करी ,
                         पहाड , पहाड  है‍  .
                         खेती  होती  नही‍,
                         उनका अपना  गणवेष  है।
                         ये  देवी , देवताओ‍ के  " भवन "  है‍  .
                         पुंज  है‍   ये ,  शक्ति  के ,
                        शान्ति  के  और  राग  के।
 
                    अरावली ,   या   सुमेरु
                    या   शिवालिक
                    या  सहयाद्रि
                    या   नीलगिरि , या
                    कि  रायसीना ,
                    या  ऋषीमुख       (  ॠष्यमूक )
                  यहा‍  सब  अपने अपने
तप  को  आते  है‍ .
कोई  किसी  से  पूछ्ता  नही‍,  सब , मूक  है‍  .
पूछ लिया तो ?   तो
आप  कौन  हो  ?
 दशरथ  पुत्र , राम।
और   आप ?
  हे  प्रभु !
आप  नर  के  मानिन्द  ये  क्या  पूछ रहे  है‍  ........  ?
   



यह रचना क्षेत्रपाल शर्मा जीद्वारा लिखी गयी है। आप एक कवि व अनुवादक के रूप में प्रसिद्ध है। आपकी रचनाएँ विभिन्न समाचार पत्रों तथा पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी है। आकाशवाणी कोलकातामद्रास तथा पुणे से भी आपके  आलेख प्रसारित हो चुके है . संपर्क सूत्र - परामर्शदाता , भूमि एवं  विकास  कार्यालय , शहरी  विकास  मंत्रालय ,कमरा न‍ 622,निर्माण  भवन  , नई दिल्ली . मोबाइल - 9045789322
               

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top