1
Advertisement
        "इतना ही"

मैं इतना ही तो चाहता हूँ,
कि यह चाहने वाला ही ना हो।
जस का तस रख दूँ खुदको,
बो दूँ तुममें खुदको,
निर्भार हो जाऊँ।
मैं निर्भार होकर ही,
अहोभाव से भर सकता हूँ।
मैं सब खो कर ही,
सब पा सकता हूँ।
मैं नाम नहीं, पहचान नहीं,
महज़ जीवन चाहता हूँ।
बिलकुल! सहज, स्वभाविक,
समर्पित चाहता हूँ।
मुझे प्रेम में,
परम हो जाना है।
तुममें, रम जाना है।
बस तुम मुझसे गुज़र जाओ
संगीत बनकर,
मुझे बाँसुरी बन रह जाना है!!



यह रचना संजय झा जी द्वारा लिखी गयी है . आप आजीविका वृद्धि एवं महिला सशक्तिकरण के उद्देश्य से प्रोजेक्ट एग्जीक्यूटिव के पद पर गैर सरकारी संस्था सृजन के साथ आदिवासी परिवारों के मध्य छत्तीसगढ़, कोरिया में कार्यरत हैं . संपर्क सूत्र - केल्हारी, कोरिया, छत्तीसगढ़। M-9098205926 Email-Sanjaykshyapjha@gmail.com. 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top