1
Advertisement
एक औरत 

एक औरत
घूँघट में
चेहरा छुपाए
मासूम सा ,
पानी ले जाती
कुएं से
मटकी में उड़ेलकर
सिर पर सजाकर I
पानी की बूंदे
छलककर
भिगो देती
उसे
कर देती गीला
पांव तक,
औरत
निगाएँ घुमाकर
इधर उधर
झाँकती घूँघट से
थोड़ा हिचकिचाकर
अशोक बाबू माहौर
साडी छटकराती
फटकारती पांव
आँचल मुँह में दबाकर
चुप्पी साधकर
लांघकर चौखट
पथ की ,
घर की
दहलीज पर
कदम रखती I


यह रचना अशोक बाबू माहौर जी द्वारा लिखी गयी है . आपकी विभिन्न पत्र - पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित हो चुकी है . आप लेखन की विभिन्न विधाओं में संलग्न हैं . संपर्क सूत्र -ग्राम - कदमन का पुरा, तहसील-अम्बाह ,जिला-मुरैना (म.प्र.)476111 ,  ईमेल-ashokbabu.mahour@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top