1
दंपति
दंपति

( अनूदित जर्मन कहानी  )                         ---------------------------                                #  दंपति                 ...

और जानिएं »

3
सूखो में कर्जों में लटके
सूखो में कर्जों में लटके

हम परेशान करते रहे और वो काम करते रहे ! सूखो में कर्जों में लटके वो, मानसूनों में डूबे अटके वो, वो सफेद कुर्ते ही नेक बेचारे, बाँ...

और जानिएं »

0
हरीश चंद्र शुक्ला (काक)
हरीश चंद्र शुक्ला (काक)

हरीश चंद्र शुक्ला(काक) || मृणाल चटर्जी || व्यंगचित्र बनाने के बाद वह नीचे लिखते हैं काक. मतलब कौआ . जहां झूठ की आह तक सुनाई दे वहां ...

और जानिएं »

1
राजभाषा  : कानूनी  दाव पेंच
राजभाषा : कानूनी दाव पेंच

राजभाषा  : कानूनी  दाव पेंच ,  नियति  से  नीयत  तक मानस भवन में  आर्य जन जिसकी उतारें  आरती।    भगवान भारतवर्ष   में  गूंजे  हमारी ...

और जानिएं »

0
उसे वचन निभाना था
उसे वचन निभाना था

उसे वचन निभाना था    मैं जिस कहानी को स्वरूप दे रहा हूँ उसमें यह तथ्य निहित है कि अंटार्कटिका सदा से साहसी नवयुवकों के आकर्षण का केन...

और जानिएं »

0
उच्चारण
उच्चारण

उच्चारण किसी भी भाषा को सीखने में उसके उच्चारण का बहुत ही ज्यादा महत्व होता है. सामान्यतः किसी भी भाषा को सीखने का पहला अध्याय, उस भाषा...

और जानिएं »

0
गोल खंडहर
गोल खंडहर

   (  लातिनी अमेरिकी कहानी  )                          ----------------------------                                  # गोल खंडहर    ...

और जानिएं »

0
ख्वाबॊं के टूटने से
ख्वाबॊं के टूटने से

सतीश चन्द्र श्रीवास्तव की गज़लें  1. पांव तो है पर चल नहीं पाता । सम्बल बहुत है पर संभल नहीं पाता ॥ अभिमन्यु हूँ, जीवन के चक...

और जानिएं »

2
हिंदी को संवारों ,इसे सम्भालो नहीं
हिंदी को संवारों ,इसे सम्भालो नहीं

हिंदी को संवारों ,इसे सम्भालो नहीं राह चलते कुछ ऐसे साथी ज़रूर मिल जाएंगे जो यह कहते हुए नज़र आएंगे कि, ‘इंग्लिश को बिट करना मुश्किल...

और जानिएं »
 
 
Top