1
Advertisement
बहुत खूबसूरत शहर मे भी रहके
योगेश पाण्डेय
मेरा गॉव मुझको बहुत याद आया
बहुत ही हँसी है यहां का ये मौसम
मगर माँ का आंचल बहुत याद आया

पहन के उतारन,बिताया है बचपन
अभावों मे अब तक,गुजारा है जीवन
जरूरत मेरी पूरी करने की खातिर
माँ का संघर्ष करना बहुत याद आया
बहुत ही हँसी है यहां का ये मौसम
मगर माँ का आंचल बहुत याद आया

वो चिमटे की खन-खन,वो चौकी वो बेलन
वो थोड़ा-सा गुस्सा,वो थोड़ी-सी अनबन
वो खेतों मे जाना,वो बोझा उठाना
वो मुझको पढ़ाना बहुत याद आया
बहुत ही हँसी है यहां का ये मौसम
मगर माँ का आंचल बहुत याद आया

वो गलियां वो राहें ,वो प्यारी-सी बांहें
वो मुझको उठाना,वो झूला झुलाना
वो रोटी बनाना,वो खाना पकाना
वो जगाकर खिलाना बहुत याद आया
बहुत ही हँसी है यहां का ये मौसम
मगर माँ का आंचल बहुत याद आया

वो नदिया का पानी,वो पुरवा सुहानी
वो गर्मी का मौसम,वो छुट्टी का आलम
वो बचकानी बातें,वो प्यारी-सी रातें
वो खटिया उठाना,वो बाहर बिछाना
माँ से पानी मगाना बहुत याद आया
बहुत ही हँसी है यहां का ये मौसम
मगर माँ का आंचल बहुत याद आया


यह रचना योगेश पाण्डेय जी द्वारा लिखी गयी है . आप स्वतंत्र रूप से लेखन कार्य में रत है . संपर्क सूत्र - फोन नं.- 07060756956 , ई-मेल: ypandey9@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top