0
Advertisement
भूखी माँ, भूखा बच्चा

मेरे नन्हे, मिरे मासूम मिरे नूरे-नज़र
अली सरदार जाफ़री
आ कि माँ अपने कलेजे से लगा ले तुझको
अपनी आग़ोशे-मुहब्बत में सुला ले तुझको
तेरे होंटों का यह जादू था कि सीने से मिरे
नदियाँ दूध की वह निकली थी
छातियाँ आज मिरी सूख गयी हैं लेकिन
आँखें सूखी नहीं अब तक मिरे लाल
दर्द का चश्म-ए-बेताब रवाँ है इनसे
मेरे अश्कों ही से तू प्यास बुझा ले अपनी
सुनती हूँ खेतों में अब नाज नहीं उग सकता
काँग्रेस राज में सोना ही फला करता है
गाय के थन से निकलती है चमकती चाँदी
और तिजोरी की दराज़ों में सिमट जाती है

चाँद से दूध नहीं बहता है
तारे चावल हैं न गेहूँ न ज्वार
वरना मैं तेरे लिए चाँद सितारे लाती
मेरे नन्हे, मिरे मासूम मिरे नूरे-नज़र
आ कि माँ अपने कलेजे से लगा ले तुझको
अपनी आग़ोशे-मुहब्बत मे सुला ले तुझको

सो भी जा मेरी महब्बत की कली
मेरी जवानी के गुलाब
मेरे इफ़लास के हीरे सो जा
नींद में आएँगी हँसती हुई परियाँ तिरे पास
बोतलें दूध की शरबत के कटोरे लेकर
जाने आवाज़ की लोरी थी कि परियों का तिलस्म
नींद-सी आने लगी बच्चे को
खिंच गयी नीलगूँ होंटों पे ख़मोशी की लकीर
मुट्ठियाँ खोल दीं और मूँद लीं आँखें अपनी
यूँ ढलकने लगा मनका जैसे
शाम के ग़ार में सूरज गिर जाए

झुक गयी माँ की जबीं बेटे की पेशानी पर
अब न आँसू थे, न सिसकी थी न लोरी न कलाम
एक सन्नाटा था
एक सन्नाटा था तारीको-तवील


अली सरदार जाफ़री एक प्रसिद्ध उर्दू साहित्यकार है . आपको १९९७ में ज्ञानपीठ पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है . आपकी ‘परवाज़’ ,‘जम्हूर’ ,‘नई दुनिया को सलाम’ , ‘ख़ूब की लकीर’ ,‘अम्मन का सितारा’ ,‘एशिया जाग उठा’ ,‘पत्थर की दीवार’ ,‘एक ख़्वाब और ,पैराहने शरर,‘लहु पुकारता है’ ,मेरा सफ़र ' आदि प्रमुख रचनाएँ हैं . 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top