2
Advertisement
                 कबीर का समाजदर्शन
कबीरदास
संसाररूपी सागर अनंतरूपी रत्नों से भरा हुआ है | भारतभूमि तो रत्नों की खाण ही रही है‍ उन्हीं महान रत्नों में से एक थे संत कबीर | वे भक्त और कवि बाद में थे,पहले समाजसुधारक थे | वे सत्य के अन्वेषक और धर्म के विश्लेषक थे | वे सिकंदर  लोदी के समकालीन थे | कबीर का अर्थ अरबी भाषा में ‘महान’ होता है|  कबीर सधुक्कड़ी भाषा में किसी भी संप्रदाय और रूढियों तथा कट्टरपंथ का खुलकर विरोध किया | हिंदी साहित्य में कबीर का, व्यक्तित्व अनुपम है  उन्होंने ऊँच - नीच तथा जाँति - पाँति के भेदों का विरोध किया | समाज में व्याप्त अन्धविश्वासों, रूढियों पर जमकर प्रहार किया है | कबीर को शांतीमय जीवन प्रिय था और वे अहिंसा,सत्य,सदाचार आदि गुणों के प्रशंसक थे | उस समय हिन्दू जनता पर मुस्लिम आतंक का कहर छाया हुआ था | कबीर ने अपने पंथ को इस ढंग से विकसित किया |जिससे सभी क्षेत्रों में फैली हुई सामाजिक बुराइयों को दूर करने का प्रयास किया| उनके साहित्य में समाजसुधार की जो भावना मिलती है उसे इसप्रकार देख सकते है-  
 धार्मिक पाखंड का खंडन :-
कबीर धार्मिक पाखंड का विरोध करते हुए कहते है कि ,भगवान को पाने के लिए मन से पवित्र होना आवश्यक है | भगवन न मंदिर में है ,न मस्ज्जिद में है ,ना वह गिरिजाघर में है | वह तो हर मनुष्य में है |
‘माला फेरत जुग गया ,गया न मन का फेर ,
      कर का मनका डारि के मन का मनका फेर |’
२     ‘काकर पाथर जोरि के मस्जिद लई चुनाय ,
               ता चढ़ी मुल्ला बाग दे,क्या बहिरा हुआ खुदाय ’
३    ‘पाथर पूंजे हरि मिले, तो में पूंजू पहाड़ ,
                 घर की चाकी कोई न पूंजे,पिसी खाई संसार’ |

हिंसा का विरोध  :-
कबीर हिंसा का विरोध करते है | प्राणिमात्रों को  मारकर उन्हें खाना कबीर को पसंद नहीं | वे कहते है कि,

  ‘बकरी पाती खात है ,ताकी काढी खाल,
         जे नर बकरी खात है ,तिनको कौन हवाल ‘|
अहंकार का त्याग :-

कबीर के अनुसार ,जिसमें प्रेम, दया,करुणा है वही सबसे बड़ा पंडित है | किताबी ज्ञान रखनेवाला सच्चा  पंडित नहीं हो सकता | वे कहते है कि,मनुष्यको कभी गर्व नहीं करना चाहिए | कभी भी दूसरों पर हँसना नहीं चाहिए | यह मनुष्य जन्म एक बार ही मिलता है | वे कहते है कि,

१    ‘पोथी पढ़ी–पढ़ी जग मुआ पंडित भया न कोय ,
        ढाई आखर प्रेम का पढ़े , सो पंडित होई ’|
२   ‘ कबीरा गरब न कीजिये ,कबहू न हंसिये कोय,
           अबहू नाव समुद्र में , का जाने का होय |
        ३    ‘ पानी केरा बुदबुदा , अस मानस की जात ,
            एक दिन छिप जात है ,जों तारा प्रभात |  
जाँति-पाँति का विरोध :-

कबीर जाँति-पाँति,उँच-नीच को नहीं मानते | वे ज्ञान को महत्वपूर्ण मानते है साथ हि कहते है कि,मनुष्य बड़ा होने से महान नहीं होता ,बल्कि दूसरों के उपयोगी होने से महान बनता है |  

१  ‘जाँति न पूछो साधू की,पूछ लीजिये ज्ञान ,
   मोल करो तलवार का पड़ा रहने दो म्यान ’|
          |            
२    ‘बड़ा हुआ तो क्या हुआजैसे पेड़ खजूर ,
         पंथी को छाया नहीं फल लगे अति दूर ’|
सदाचरण, सत्य  पर बल :-
वे युग के प्रति सचेत थे | सत्य पर बल देते हुए कहते है कि,
‘ साँच बराबर तप नहीं , झूठ बराबर पाप ,
  जाके ह्रदय साँच है , ताके ह्रदय आप ’|
परोपकार की भावना :-
हमारी संस्कृति में परोपकार का महत्वपूर्ण स्थान है | कबीर कहते है कि, परोपकार का भाव यह है कि, हम दूसरों की भलाई का मार्ग प्रशस्त करें | दूसरों के दुःख को अपना दुःख समझे और वह दुःख दूर करने के लिए अपना जीवन उत्सर्ग कर दें | इसी संदर्भ में वे कहते है कि,
                             १  ‘ मर जाँऊ मांगू नहीं ,अपने तन के काज ,
                                  पर स्वारथ के कारणे, मोहि न मांगत लाज’ |
आर. डी. गवारे 
संक्षेप में कह सकते है कि, कबीर एक महान समाजसुधारक थे | उन्होंने अनुभूत सत्य के आधार पर समाज का मार्गदर्शन किया है | कुसंगति, छलकपट, अहंकार, निंदा, जाँतिभेद, धार्मिक पाखण्ड, आदि को त्यागकर ही सच्चा मानव बना जा सकता है | वे आचरण कि शुद्धता पर बल देते है | मानव जीवन बड़ा अनमोल है इसलिए उसका महत्त्व जानकर समय का सदुपयोग करना चाहिए | असहाय प्राणियों को मार कर खाना कबीर  को पसंद नहीं | हिंसा का वे विरोध करते है | | सचमुच, कबीर का सम्पूर्ण साहित्य समाज को सही राह दिखाकर उस पर चलने के लिए प्रेरित करता है |
             
सहा. प्रा. आर. डी. गवारे (मो.९६३७५२५६८०).हिंदी विभाग, अ. र. भा. गरुड़ कला ,वाणिज्य एवं विज्ञान महाविद्याल शेंदुर्नी, ता.जामनेर  जिला. जलगाँव ,महाराष्ट्र-४२४२०४

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत बढ़िया आपका नया लेख अच्छा लगा, शुभकामनाये !

    उत्तर देंहटाएं
  2. R.D. PAGARE,
    i liked your article about "Kabeer ke Dohey".
    thanks and best wishes.


    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top