36
Advertisement

गजानन माधव "मुक्तिबोध" : एक परिचय

आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध कवि गजानन माधव "मुक्तिबोध" का जन्म १३ नवम्बर १९१७ को श्योपुर में ग्वालियर के निकट हुआ था। इनके पिता पुलिस विभाग के इंस्पेक्टर थे और उनका तबादला प्रायः
मुक्तिबोध
होता रहता था। इसीलिए मुक्तिबोध जी की पढाई में बाधा पड़ती रहती थी। सन १९३० में मुक्तिबोध जी ने मिडिल की परीक्षा ,उज्जैन से दी और फेल हो गए । कवि ने इस असफलता को अपने जीवन की महत्वपूर्ण घटना के रूप में स्वीकार किया है । मुक्तिबोध, अपने दोस्तों के साथ रात -बेरात शहर घूमने को निकल जाते थे। बीडी पीने की आदत शायद वही से पड़ी । रात का भयानक सन्नाटा ,रहस्यमयी वातावरण ,जुर्मो का अँधेरा संसार जो उनकी कविता में है ,रात को घूमने के कारण ने भी ऐसे बिम्बों को सजोने में मदद की होगी । इसके बाद मुक्तिबोध किसी तरह संभले और उनकी पढाई का सिलसिला ठीक ढंग से चला और साथ ही जीवन के प्रति उनकी नई संवेदना और जागरूकता बढ़ने लगी । मुक्तिबोध जी ,उज्जैन में पढ़ते हुए १९५३ में इन्होने साहित्य रचना का कार्य प्रारम्भ किया। सन १९३९ में इन्होने शांताजी से प्रेम विवाह किया।


मुक्तिबोध जी ने छोटी आयु में बडनगर के मिडिल स्कूल में अध्यापन कार्य प्रारम्भ किया। इसके बाद शुजालपुर,उज्जैन ,कलकत्ता,इंदौर ,बम्बई, तथा बनारस आदि जगहों पर नौकरिया की। उन्होंने लिखा है कि "नौकरिया पकड़ता और छोड़ता रहा । शिक्षक ,पत्रकार ,पुनः शिक्षक ,सरकारी और गैर सरकारी नौकरिया। निम्न -मध्यवर्गीय जीवन,बाल -बच्चे ,दवादारू ,जन्म -मौत में उलझा रहा।
मुक्तिबोध की रूचि अध्ययन -अध्यापन,पत्रकारिता और समसामयिक राजनितिक एवं साहित्य के विषयों पर लेखन में थी। सन १९४२ के आस-पास वे वामपंथी विचारधारा को ओर झुके तथा शुजालपुर में रहते हुए उनकी वामपंथी चेतना मजबूत हुई। आजीवन गरीबी से लड़ते हुए, और रोगों का मुकाबला करते हुए अंततः ११ सितम्बर १९६४ को इनका देहांत हो गया।
डॉ.नामवर सिंह जी के शब्दों में - "नई कविता में मुक्तिबोध की जगह वही है ,जो छायावाद में निराला की थी। निराला के समान ही मुक्तिबोध ने भी अपनी युग के सामान्य काव्य-मूल्यों को प्रतिफलित करने के साथ ही उनकी सीमा की चुनौती देकर उस सर्जनात्मक विशिषटता को चरितार्थ किया, जिससे समकालीन काव्य का सही मूल्याकन हो सका ।" मुक्तिबोध जी की रचनाओ में एक स्वस्थ सामाजिक चेतना ,लोक मंगल भावना तथा जीवन के प्रति एक व्यापक दृष्टिकोण विद्यमान है। काव्य -सृजन के प्रति इनका दृष्टिकोण सर्वदा प्रगतिशील रहा है, अतः इन्हे आधुनिक हिन्दी कविता के बाद के किसी संकरे कटघरे में सीमित करना उचित नही :
" मै अपने से ही सम्मोहित ,मन मेरा डूबा निज में ही
मेरा ज्ञान निज में से ,मार्ग निकाला अपने से ही
मै अपने में ही जब खोया ,तो अपने से ही कुछ पाया
निज का उदासीन विश्लेषण आँखों में आंसू भर लाया। "
*************************************************************************************
"पूरी दुनिया साफ़ करने के लिए मेहतर चाहिए -
वह
मेहतर मै नही हो पाता। "

रचना - कर्म :
काव्य : चाँद का मुँह टेढा है, भूरी भूरी खाक धूल
आलोचना-साहित्य : कामायनी :एक पुनर्विचा ,भारत : इतिहास और संस्कृति, नई कविता का आत्म संघर्ष तथा अन्य निबंध ,नए साहित्य का सौंदर्यशास्त्र ।
कथा-साहित्य : काठ का सपना, विपात्र, सतह से उठता आदमी


यह हिन्दी साहित्य के लिए शर्म की बात है कि ऐसे प्रतिभावान कवि की जीवन भर भरसक उपेक्षा हुई और उनकी कोई काव्य-पुस्तक उनके जीवित रहते प्रकाशित नही हुई

एक टिप्पणी भेजें

  1. गजानंद जी के वारे में पहली वार इतनी जानकारी मिली
    अच्छी जानकारी के लिये धन्यबाद......

    उत्तर देंहटाएं
  2. Muktibodh ki khas baat ye thi ki unhone jo yatra kee wo apne kade anubhavon ke jariyekee. wampanth bhi unhone kisi kitabi formula ki tarh nahi paya tha Namwar jaiso kee tarah. aur is baat ka jikr hi nahi kiya jata ki ve kavi hee nahi the balki Ramchandra Shukl ke baad akele bade alochak bhi. halanki unhone kuchh hi alochnatamk tippaniya likhee.n

    उत्तर देंहटाएं
  3. आशुतोष जी
    जिस तरह आप हिन्दी साहित्य जगत
    के अग्रणी साहित्यकारों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दे रहे हैं वह अत्यन्त सराहनीय है !

    मैं आपके लेखन कार्य को नमन करता हूँ और आपके ब्लॉग की सफलता की कामना करता हूँ !

    मेरी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. MAI TO AAPKE BLOG KA NIYAMIT PATHAK HO GAYA HU.... KYA KARU YE MERI MAJBOORI HAI AAPKE BLOG PAR ETNI ACHHI JANKARIYAN MILTI HAI KI AAPKE BLOG PAR AAKAR PADHNA ACHHA LAGTA HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  5. MAI TO AAPKE BLOG KA NIYAMIT PATHAK HO GAYA HU.... KYA KARU YE MERI MAJBOORI HAI AAPKE BLOG PAR ETNI ACHHI JANKARIYAN MILTI HAI KI AAPKE BLOG PAR AAKAR PADHNA ACHHA LAGTA HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. hindi sahitya jagat ke baare me jankari bahut hi sunder pryas aur sahiya seva hai mere jaisi alpagia ke liye bahut labhkari hai dhanyavad muktibodh ji ki jeevanike baare me pad kar achha laga

    उत्तर देंहटाएं
  8. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपका प्रयास सराहनीय है

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुक्तिबोध जी पर लिखे गये इस आलेख के लिए आपका आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  12. Muktibodh Ji par acchi jankari uplabdh karai aapne. Shubhkaamnayein.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आशुतोष जी,
    मैं भी हिंदी साहित्य से जुड़ा हूं। गजानन माधव "मुक्तिबोध के बारे आपकी प्रस्तुति सराहनीय है। अन्य साहित्यकारों के बारे में भी आपके ब्लाग पर प्रस्तुति देखने को मिलेगी। इसी आशा के साथ...

    श्याम बाबू शर्मा
    http://shyamgkp.blog.co.in
    http://shyamgkp.blogspot.com
    http://shyamgkp.rediffiland.com

    E mail- shyam_gkp@rediffmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर चिट्ठा। ...और सुंदर लेखन। चिट्ठों के इस सागर में गोते लगाने के लिए आपका स्वागत है। आप अच्छा लिखें और आपके शब्द ऐसे ही हमारे दिल को छूते रहें। हमारी शुभकामनाएं हमेशा आपके साथ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. गजानन माधव "मुक्तिबोध"जी के वारे में बहुत सुन्दर लिखा आपने, बधाई.
    कभी मेरे ब्लॉग शब्द-शिखर पर भी आयें !!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आज आपका ब्लॉग देखा....... बहुत अच्छा लगा. मेरी कामना है की आपके शब्दों को नए अर्थ, नई ऊर्जा और विराट सामर्थ्य मिले जिससे वे जन सामान्य के सरोकारों की अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम बन सकें.....
    कभी समय निकाल कर मेरे ब्लॉग पर पधारें-

    http://www.hindi-nikash.blogspot.com

    सादर-
    आनंदकृष्ण, जबलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  17. Aap mere blog par aaye aur utsaah-vardhan kiya. Hriday se dhanywaad...
    aapke blog ko main padhta raha hun...aap mahaan sahitykaaron ke samman men achchha kary kar rahe hain...iske liye prashansa ke paatr hain... Hindi ke sapoot hai...Meri subhkaamnayen aur badhaiyan swikaar karen...

    उत्तर देंहटाएं
  18. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  19. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  21. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  22. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  23. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  24. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  25. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  26. मैँ धन्यवाद ! देना चाहता हूँ उस प्रकाशन और गुगल वेब को जो 'मुक्तिबोध' जी का अच्छे से चित्रित वर्णन का विवरण दिया है ।

    मनोज कुमार साहू
    एम.ए.हिन्दी
    रायपुर (छ.ग.)

    उत्तर देंहटाएं
  27. आज का हर वेक्ति आपने आप मे एक सहित्या कार है
    उस का जीवन ही

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Bs us sahityakar ko khojne ki or tarsshne ki drr

      हटाएं
  28. very very nice...............................

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top