9
Advertisement
65 साल की शैलजा अपने दोस्तों और कुछ गिने चुने रिश्तेदारों के बीच बैठी ऐसी लग रही थी जैसे 16 साल के बच्ची से ऐसी गलती हो गई है कि पूरा कुनबा उसे सीख देने में लगा हुआ हैऔर सब माने हुए हैं कि वो सबसे ज्यादा समझदार हैं

"तुम ऐसा कर कैसे सकती हो शैलजा"

"कर सकती हो पूछ रहे हो ????? ये कर चुकी हैं ... "

"शायद इसे ही सठियाना कहते हैं"

"इट्स रियली अमेजिंग, एक हजार गज का फ्लैट बेच कैसे दिया तुमने ...?"

"अरे यार अपने पति की निशानी समझ कर ही अपने पास रख लेतीं"

"पता है तुम्हें, लोग तरसते हैं आजकल, इतनी बड़ी प्रोपर्टी के लिए और तुम हो कि आसानी से बेच आईं"

"अरे बेचना भी था तो एक बार किसी से पूछ ही लेंती"

"आज तक पूछा है इसने, जो किसी से अब पूछती"

"मुझे तो ये समझ नहीं आता कि एक हजार गज का फ्लैट छोड़ कर ये दो कमरों की बरसाती में रहेगी कैसे"

"अरे दो दिन में वहां से भागे नहीं तो नाम बदल देना .... देखा है मैंने उस चूहे दानी को, जितना अभी खुश हो रही है न, बाद में उतना ही रोएगी की कहां आकर फंस गई "

शैलजा सिर झुकाए हुए बैठी थीये समझे बिना की कौन क्या कह रहा है

शैलजा अपने पति के रहते सारी दुनिया की सुनती भी थी और कहती भी थीपर जब से उसके पति ने उसे छोड़कर उसकी सहेली से शादी की थी तब से उसने सबसे कुछ भी कहना छोड़ दिया था वो सिर्फ सुनती थी क्योंकि वो जानती थी कि रिश्तेदार ऐसे ही होते हैंऔर अकेली औरत को समझाना तो अपना परम कर्तव्य समझते हैंक्योंकि उनका मानना है कि अकेली औरत तो अपने फैसले लेने के लायक ही नहीं होतीबेश्क के देश की प्रधानमंत्री एक महिला रहीं हो, बेशक स्पेश पर जाने वाली महिला हो, एवरेस्ट की चोटी पर चढ़ने वाली महिला हो, बॉक्सिंग में वर्ल्ड में नाम कमाने वाली महिला रही होपर उसके अपने फैसले लेने का हक उसे नहीं है वो उसके माता-पिता लेते हैं। अगर वो नहीं हैं तो रिश्तेदार इस पद को खुशी-खुशी संभालने आ जाते हैं। हितेश ने जब दूसरी शादी का फैसला लिया था तो भी हितेश की बजाय सब उसे ही समझाने आए थे और तब भी शैलजा यूं ही चुपचाप सिर झुकाए बैठी रही थी

"तू क्यों नहीं हितेश को समझाती"?

"कुछ तो ऐसा किया होगा तुमने कि उसे दूसरी शादी करनी पड़ी"

"कहा था मैंने मत घुसा अपने घर में अपनी सहेली को देख लिया, कहना न मानने का नतीजा ... अब भुगत"

शैलजा फिर भी कुछ नहीं बोली थी उसने सिर्फ हितेश से ये कहा था कि

"मैं इसी घर में रहना चाहती हूं क्योंकि बच्चों के स्कूल पास में हैं और कहीं और जाऊंगी तो थोड़ी मुश्किल हो जाएगी"

हितेश हैरान था कि शैलजा ने कोई रोना-धोना नहीं मचाया, न कुछ मांगा, न बेचारी बनी, आराम से तालाक के पेपर भी साइन करके दे दिए .... हितेश भी यही चाहता थावो मन ही मन बहुत खुश था वैसे भी इसकी सारी किस्तें तो शैलजा ने ही दी थींउस सुबह के बाद शैलजा सकून में थीशैलजा की जिंदगी में कुछ चेंज नहीं आया था बल्कि बहुत से काम कम हो गए थेशैलजा को अपने घर में शांति मिलती थीशैलजा कभी किसी कॉमन फैमिली फंक्शन में जाती तो हितेश और अपनी फ्रेंड को देखकर हंस पड़ती और वो किलस के रह जाती .... क्योंकि शैलजा जानती थी कि उसकी नाजुक मिजाज सहेली को हितेश को संभालने में कितनी मुश्किल हो रही होगी

65 साल की उम्र में फिर कुछ लोग सो कॉल्ड अपने, उसे घेरे हुए बैठे थेऔर शैलजा के फैसले पर उसे समझा रहे थेशैलजा ने सब को खिलाया पिलाया और अगले दिन अपनी दो कमरे की बरसाती में शिफ्ट हो गई थीशैलजा के दोनों बेटे एक अमेरिका एक इंग्लैंड में बैठा था और वो भी इसी बात पर नाराज थेकि माँ ने किसी से पूछा भी नहीं और इतनी बड़ी प्रोपर्टी बेच दीउन्होंने सोचा भी नहीं कि उस घर में हमारी इतनी यादें जुड़ी हुई हैंदोनों ने ही एक लंबी सी मेल शैलजा को अपनी नाराज़गी जाहिर करते हुए लिख दी पर इस बात का जिक्र कहीं नहीं था कि उसने जो पैसे भेजे हैं वो इस नाराजगी के तहत रखेगें या वापिस भेज देगेंशैलजा दोनों की मेल पढ़कर मुस्कुराई और अपने बच्चों को उनकी मेल का जवाब लिखना शुरु किया

प्रिय बच्चों .....
मुझे माफ करना, मैंने तुम्हारे उस घर को बेच दिया जिसमें तुम्हारी बहुत सारी यादें जुड़ी हुईं थींतुम्हें याद है कि तुम अपनी इन यादों को देखने, उन्हें संभालने में 15 साल में कितनी बार आए होकुल मिलाकर तीन बार, याद है मुझेउसमें से दो बार ही तुम इस घर में रुके थे, जिसे तुम्हें बेचने का दुख हैउन दो बार में तुम्हारा अधिकतर समय अपने दोस्तों से मिलने में जाता थाऔर उन तीस दिनों में से 22 बार स्लिपओवर अपने दोस्तों के घर पर ही करते थेमुझे एक दिन भी याद नहीं आता कि हमने बैठ कर पुरानी बातें, तुम्हारा बचपन कभी भी डिस्कस किया होयाद है तुम्हें, तुम्हारे कमरे में पड़ा एक पुराना बक्सा जिसमें तुम्हारा फुटबाल खेलते हुए एक जूता कहां चला गया पता ही नहीं चला और वो दूसरा जूता मैंने उस याद को याद करने के लिए आज
सुनीता अग्रवाल 
तक संभाल कर रखा हुआ है
तुम्हारी वो गंदी सी टी शर्ट जिसपर तुम्हारे दोस्तों के काले-पीले रंग हैं, तुम्हारी वो ड्रांइग बुक जिसमें तुमने जो कुछ भी बनाया मेरे लिए वो नायाब थाउन सबको देखकर तुमने बहुत चिढ कर कहा था क्या मम्मा आपने तो अभी तक ये गंदा सा एक स्कूल शूज, हमारे बचपन के कपड़े यहां तक की हमारे नैपी भी रखें हुएं हैंक्या करोगी इसका फेंक-फांक कर खत्म करो। पर फिर भी मैंने उन यादों को अभी तक संभाल कर रखा हुआ था, तुम्हारे बच्चों को दिखाने के लिए ... पर ... खैर उस घर में किन यादों को तुम संभालने की बात कर रहे थे मुझे याद नहीं आतीं

तुम्हारे लिए ये घर बाबा आदम के जमाने का घर हो चुका था और मुझे तुम हमेशा यही कहते थे कि "माँ, क्यों नहीं इस घर का रेनोवेशन करवा लेतीं"। पर न जाने तुम्हें कैसे भ्रम था कि एक सरकारी नौकरी करने वाली माँ के पास इतना पैसा होगा जो एक हजार गज के घर का रेनोवेशन करवा देमेरी पेंशन तो इस घर का बिल और मेंट्नस के लिए ही पूरी नहीं पड़ती थीतो इस घर का रिनोवेशन कैसे करातीइसलिए तुम अपने दोस्तों के घर में रहते और आ-आकर उनकी बढ़ाईयां करते कि क्या बढ़िया घर है मम्मा एक दम फाइवस्टार होटल की तरह, मजा तो ऐसे घर में रहने में आता हैये तो बस .... घर कम अजायबखाना ज्यादा लगता हैइसे बेच क्यों नहीं देती मम्मा, कोई दूसरा घर क्यों नहीं ले लेतीं जहां आप आराम से रह सकोमैंने कई बार सोचा कि तुम लोग ये कहोगे पर तुम ने कभी नहीं कहा लोगोंमुझे लगा कि इस आजायबखाने की चौकीदारी करते-करते मैं कहीं मर ही न जाऊं पर अब मैं जीना चाहती हूं। कुछ साल अपनी जिंदगी ... आराम से अपने छोटे से छत के गार्डन मैं बैठकर चाय पीना चाहती हूंअपने बेड पर बैठकर आराम से किताबें पढ़ना चाहती हूंअपनी छोटी सी किचन मैं अपनी पसंद का खाना बनाकर खाना चाहती हूंमैं अब आराम चाहती थीऔर मैं आज आराम में हूं अपनी इस दो कमरों की बरसाती मेंजहां मुझे रात को रोज भयानक सा सपना तो आता है कि मैं एक के बाद एक कमरा साफ करने मैं लगी हूं क्योंकि काम वाली ने इतने कम पैसों में काम करने को मना कर दिया हैपूरे दलान और पौधों की देखभाल करते-करते मैं औंधी हो गईं हूं पर जब आँख खुलती है कि मैं अपनी इस दो कमरों की छोटी सी बरसाती में हूं तो सुकून मिलता है। पूरी जिंदगी में पहली बार मैं इस घर में बिना चिंता के सोकर उठी क्योंकि मुझे ना सफाई कि टेंशन थी और न इस बात की चिंता की काम वाली नहीं आई तो क्या होगा? क्योंकि मैं जानती हूं कि अब ये घर मेरे हिसाब से इतना है कि मैं देखभाल अकेले कर सकती हूंछोटे-छोटे प्यारे से गमलो में लगे पौधे। प्यारी सी हर आरामदायक कम समान की मेरी किचनमेरी किताबें और मेरा आरामदायक बेड और बाथरुम तो देखोगो तो एकदम फाइवस्टार होटल जैसा हैमेरी इस दो कमरों की बरसाती में मेरे सुख की हर एक चीज़ हैड्राइंग रुम भी इतना सुंदर है कि मैं इसे अपना ड्रीम हाऊस कहूं तो गलत नहीं होगाएक बात बताऊं बच्चों मुझे लगा कि कोई भी इंसान जब तक अपने सुख के बारे में ना सोचे तो कोई भी नहीं सोचतामैंने भी कभी नहीं सोचा और यही सोचती रही कि अगर इस घर को मैंने बेच दिया तो तुम दोनों क्या कहोगे और लोग क्या कहगें पर जिस दिन मुझे लगा कि किसी दिन इस घर में मर भी गई तो किसी को पता भी नहीं चलेगाऔर उस दिन मैंने इसे बेच दिया अगर इन यादों का बोझ तुम लोगों पर भी होता तो शायद मैं ये कदम न उठाती पर ये यादें मेरे दिल-दिमाग और आर्थिक हालत को बदतर कर रहीं थीं तो मैंने इन यादों को अपने जेहन में रखकर, इसे बेच दियाऔर मुझे लगता है कि वो पैसा जो तुम लोगों को मैंने भेजा है तुम्हें बुरा नहीं लगा होगा और जो पैसा मेरे पास है वो मेरे मरने के बाद तुम्हारे पास ही तो जाना हैमेरा तो गुजारा सिर्फ उसके इंटरस्ट से हो जाता हैजानते हो बच्चों उम्र के साथ-साथ अपने मोह-माया और समान को जितना कम कर सको कर देना चाहिए। ईश्वर ने भी इस शरीर को इसी तरह बनाया है जब बच्चे से बड़े होते हैं तो वो दांत, बोलने की शक्ति, एनर्जी, दिमाग, सब चीज़े बढ़ाता चलता है और जैसे उम्र घटने लगती है तो ईश्वर सारी चीज़े गिराने लगता दांत, बाल, शरीर ये ईशारा होता है कि अब समान कम करो तो किस बात के मोह के साथ हम इतने बड़े-बड़े घर संभाले रहते हैं। और बुढ़ापे की दहलीज पर इतने बड़े घरों के चौकीदार बनकर रह जाते हैंऔर एक दिन अखबारों की सुर्खियों में अपनी लाश को पाते हैं और लोग ऐसे बूढों पर तरस खाते हैं और उनकी संतानों को गालियां देते हैंपर मैं खुश हूं कि मैंने ऐसा मौका ही किसी को नहीं दियामैं अपने घर में खुश हूं, तुम लोग कभी इंडिया आओ तो मेरे छोटे से घर में तुम्हारा स्वागत है

                                                                                                  तुम्हारी माँ



यह रचना सुनीता अग्रवाल जी द्वारा लिखी गयी है . आप, बीबीसी मी़डिया एक्शन में एक लेखक के तौर पर कार्यरत है तथा आपने विभिन्न विषयों पर डाक्यूमेंटरी और लघु फिल्म बनाई हैं

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत सुंदर प्रभावशाली कहानी, लेखिका सुनीता जी को हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक बेहतरीन कहानी पढ़वाने के लिए धन्यवाद। भावुक कर देने वाले आपके लेखन कौशल से अभिभूत हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कल्पना जी और प्रतुल जी आपके प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. घर घर की और हर घर की सच्चाई बखानती रचना...

    प्रस्तुति के लिए धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कहानी बहुत ही राेचक है बदलते समय के साथ नारी के विचारों में हाेने वाले परिवर्तन को बताती है़

    उत्तर देंहटाएं
  6. Gili aankhein... main bhi kho gaya un yaadon me jo mere pitaji ke apne bade se ghar me hain.... kaise mushkilon se bana wo ghar, aur aaj door hain hum...

    Ab samajh me aata hai maa kyun aaj bhi mere purane kapde rakhi hain.....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी कहानी से आपकी यादें ताजा हुई इसका मतलब है कि मेरा कहानी लिखना सार्थक हुआ। धन्यवाद..

      हटाएं
    2. I like your story and it touched my heart and jo aapne likha h wo bilkul sahi h aajkal aisa hi hota h aapne to hakeekat ko apni kalam k support se bilkul sahi sahi likha h very good.Thank You very much I want to meet You and congrats you personally I am a big fan of you.Thanks Once again.

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रभावशाली कहानी

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top