7
Advertisement
दीप्ति श्री "पाठक"
एक पन्ना पलटती हूँ ,
विहंगम दृष्टि में ,
जिसकी हर पंक्तियाँ हैं श्वेत ,
फिर भी समझती हूँ ,
और समझती है संवेदना ,
और पढ़ती हूँ मृत्यु !

और दूसरा पन्ना पलटती हूँ ,
जिसकी हर पंक्तियों में
गया है उकेरा ,
स्वार्थ कि मोतियाँ ,
उम्मीद कि धुँधली गाथा ,
लक्ष्य ढूँढते इरादे ,
परिभाषा ढूँढता प्रेम ,
आदमी ढूँढते हुए रिश्ते ,
कान्धा ढूँढता हुआ लाश ,
कहीं रोटी ढूँढती भूख ,
कहीं भूख ढूँढती रोटियाँ ,

सब हैं इस पन्ने पर ,
लेकिन ,
वेदना के घेरे में ,
ऐसे कैद हैं हर शब्द ,
कि मैं बार - बार
ढूँढती हूँ इसमें जीवन ....!

यह रचना दीप्ति श्री "पाठक" जी द्वारा लिखी गयी है ,जोकि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में अध्ययनरत हैं. 

एक टिप्पणी भेजें

  1. आपकी कृति बुधवार 12 फरवरी 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना , सार्थक अभिव्यक्ति है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही संदर एवं सबल रचना दीप्ति ! सदा कलम चलाती रहो..!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top