17
Advertisement
कैसे कह दूँ कि मुलाकात नहीं होती है

शकील बदायुनी
कैसे कह दूँ कि मुलाकात नहीं होती है
रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है

आप लिल्लाह न देखा करें आईना कभी
दिल का आ जाना बड़ी बात नहीं होती है

छुप के रोता हूँ तेरी याद में दुनिया भर से
कब मेरी आँख से बरसात नहीं होती है

हाल-ए-दिल पूछने वाले तेरी दुनिया में कभी
दिन तो होता है मगर रात नहीं होती है

जब भी मिलते हैं तो कहते हैं कैसे हो "शकील"
इस से आगे तो कोई बात नहीं होती है


विडियो के रूप में देखें :




एक टिप्पणी भेजें

  1. दिल की बात कह दी आपने

    उत्तर देंहटाएं
  2. Jism se jism mil bhi jaaye , pr rooh se rooh na mil paye. Toh kya baat huie.!

    उत्तर देंहटाएं
  3. #HindiKunj
    बहुत ही सुंदर लिखा है आप ने.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल का राज कविता बन कर बेला

    उत्तर देंहटाएं
  5. Chandra Prakash Jainजून 06, 2018 12:10 pm

    बहुत खूव, शकील साहव की बात ही निराली है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब शकील बदायुनी जी

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top