0
Advertisement
रणजीत कुमार
लगता हैं क्यूँ  ऐसा की
पथिक मैं अकेला  हूँ 
अंजान राहों  का खोजी
मैं अलबेला हूँ 
रस्ते वही चुनता  हूँ
अनभिज्ञ मैं  भी जिससे 
पग पग मेरी रचती है
कुछ काव्य कुछ  किस्से
ये किस्से अनोखे  है
कविता भी कुछ  नयी सी
ये व्यक्त करते उसको
जो भाव थी दबी  सी
हर काव्य मेरी उसी 
सफर की निशानी है
जीवन के दास्ताँ  मेरी
अनमोल कहानी  है ..........
 

यह रचना रणजीत कुमार मिश्र द्वारा लिखी गयी है। आप एक शोध छात्र है। इनका कार्य, विज्ञान के क्षेत्र में है . साहित्य के क्षेत्र में इनकी अभिरुचि बचनपन से ही रही है . आपका उद्देश्य हिंदी व अंग्रेजी लेखनी के माध्यम से अपने भाव और अनुभवों को सामाजिक हित के लिए कलमबद्ध करना है।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top