12
Advertisement
एक दिन बादशाह अकबर ने बीरबल से कहा - हूर ,परी और चुड़ैल लाओ . दूसरे दिन बीरबल ने एक वेश्या और अपनी स्त्री को लेकर जब दरबार में पहुंचे तो कहा - हुजूर ! अपनी बेगम साहिबा को और बुलवा लीजिये . बादशाह की आज्ञा से बेगम साहिबा भी आ गयी ,तब बीरबल ने इस प्रकार जबाब दिया . उसने कहा - हुजूर ! यही वेश्या हूर है यानी जन्नत में मिलने वाली सुंदरी ,दूसरी मेरी स्त्री है जो यह सर्व सुंदरी है और सब स्त्री सुलभ गुणों से पूर्ण है , न कभी गहनों के लिए झगडती है और न किसी बात के लिए मचलती है इसीलिए यह परी है . तीसरी बेगम साहिबा है . आप खुद ही जानते है ,इनकी इच्छा पूरी करना आपका दिन का खाना और रात की नींद को हराम कर देता है . बेगम साहिबा मन मसोस कर रह गयी . बादशाह बड़े शर्मिंदा हुए .

एक टिप्पणी भेजें

  1. Satyendra shuklaमई 07, 2011 9:16 am

    Mujhe Akbar aur Beerbal k Jokes Bahut acche lagte hai....
    Aur acche jokes bhejo...

    उत्तर देंहटाएं
  2. mujhe akbar aur birbal ka ek-ek jokes bahut acha lata hai aru bhejo

    उत्तर देंहटाएं
  3. bir bal to birbal hai yaar koi dusta aisa ho hi nahi sakta

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामीजून 19, 2012 2:22 pm

    aise jokes kisi se compare nahi ki ja sakte

    उत्तर देंहटाएं
  5. birbal aur badsah ke kisson min kuchh alag hi bat hai

    उत्तर देंहटाएं
  6. birbal aahaha..... badsah aahaha.......donu bebakuf the

    उत्तर देंहटाएं
  7. समझदार धन-दौलत से पहले जबान
    पर पहरा लगाते हैं
    बैल को सींग और आदमी को उसकी जबान
    से पकड़ा जाता है।
    अक्सर रात को दिया वचन सुबह तक मक्खन
    सा पिघल जाता है।।
    तूफान के समय की शपथें उसके थमने पर
    भुला दी जाती हैं।
    वचन देकर नहीं मित्रता निभाने से कायम
    रखी जा सकती हैं।।
    एक रुपये वचन की कीमत आधे रुपये के
    बराबर भी नहीं होती है।
    वचन और पंख को अक्सर हवा
    उड़ा ले जाती है।।
    एक छोटा-सा उपहार बहुत बड़े वचन से
    बढ़कर होता है।
    वचन के देश में मनुष्य भूखा मर
    सकता है।।
    अंडे और कसमें तोड़ने में कोई देर
    नहीं लगती है।
    तंगदिल इंसान की जबान बहुत लम्बी रहती है।।
    दो बातूनी साथ-साथ बहुत दूर तक
    यात्रा नहीं कर पाते हैं।
    समझदार धन-दौलन से पहले जबान पर
    पहरा लगाते हैं।।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top