0
Advertisement
अँधेरा है, अँधेरा है,बेहद अँधेरा है !घुप अँधेरे ने
सारी सृष्टि को
अपने जाल में / जंजाल में
धर दबोचा है, 
घेरा
 है !


नहीं; लेकिन
तनिक भयभीत होना है,हार कर मन में
पल एक निष्क्रिय बन
 सोना है !तय है
कुछ क्षणों में
रोशनी की जीत होना है !


आओ
रोशनी के गीत गाएँ !सघन काली अमावस है
पर्व दीपों का मनाएँ !


तम घटेगा
तम छँटेगा
तम हटेगा !
......-......

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top