4
Advertisement
भाषा भाव  की अभिव्यक्ति के मार्ग को सुगम और सरल बनाता है. शब्द जो मैंने सर्वप्रथम उच्चारित किया माँ था और हिंदी मेरे भाव विचार वाणी और क्रिया का स्वतः विस्तार बना. आज हिंदी भाषा अपने ही देश में विकलांग की तरह है यहाँ यह बता दूँ की भारत की अधिकारिक भाषा भले ही हिंदी है पर राष्ट्रीय भाषा नहीं ये विडम्बना नहीं तो और क्या है . एक महान विचारक केविन ने कहा था ‘ भारत एक समृद्ध राष्ट्र है जहाँ निर्धन लोग रहते हैं ’ सच ही तो है १९४७ में हम आजाद कहाँ हुए मात्र सत्ता हस्तानान्तरण ही तो हुआ और शोषक एवं शोषण की नयी पद्धति का उदगम भी जहाँ अपनी ही भाषा अपने ही संस्कार को तिलांजलि दे दी हमने. समसामयिक परिदृश्य में इंडिया हिन्दुस्तान पर हावी है और भारत के सनातन नींव को खोखली करने पर  व्यंग  भी. किसी ने ठीक ही कहा है की किसी महान सभ्यता को धराशायी करनी हो तो बस उसकी भाषा एवं संस्कृति को बर्बाद करो बाकी स्वयं हो जाएगा. वाल्टर चैनींग के ये शब्द कितने सटीक हैं “किसी भी स्वतंत्र देश के लिए ये सांस्कृतिक त्रासदी ही तो है जब उसकी अधिकारिक एवं शिक्षण की भाषा कोई विदेशी भाषा हो”. विकास की जो राह पर हम चल रहे हैं वस्तुतः सामूहिक विनाश के ओर हमे ले जा रहा है. हम भूटान से सीख सकते हैं जिसने आधुनिकता के साथ अपने सांस्कृतिक जड़ों को कमजोर होने नहीं दिया है.
रीटा ब्राउन ने कहा है “भाषा किसी भी संस्कृति का एक बहुमूल्य मानचित्र है. ये हमे बताती है की वहाँ के लोग कहाँ से आ रहे हैं और उनकी यात्रा किस ओर हो रही है” आज हम अपनी भाषा अपनी संस्कृति से दूर होते जा रहे हैं कैसे कोई पुष्प जीवंत हो सकता है अपने जड़ों को तिरस्कृत कर के. कमलापति त्रिपाठी ने सच ही व्यक्त किया है की हिंदी भारतीय संस्कृति की आत्मा है. सवाल ये नहीं की हम आधुनिकता के परिपाटी पे हिंदी की बलि चढ़ा रहे हैं पर ये की हम अपने आने वाले पीढ़ी के लिए क्या सन्देश छोड़ जायेंगे. आज डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद का वो वक्तव्य “जिस देश को अपने भाषा और साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नत नहीं हो सकता” मेरे विचारों को जागृत कर देता है.
हिंदी दिवस पर हिंदी  भाषा के विभूतियों एवं समस्त हिन्दुस्तान को मेरा मौन दंडवत.

एक टिप्पणी भेजें

  1. १४-०७-१९४९ को हिंदी को राजभाषाका सुहाग बख्शा गया तभी से बेचारी हिंदी राष्ट्रभाषा के सिन्दूर को अपनी मांग में सजाने को तरस रही है|६१ सालों के बाद भी हिंदी राज्य की ही भाषा है |केंद्र सरकार के कार्यालयों में विशेषकर उत्सव सेलेब्रेट करके प्राईज़ बांटे गए ज्यादा तर अपनों को ही बांटे गए|लेडीस एंड जेंट्स के संबोधनों से दिवस प्रारंभ हुए और टी पार्टी के बाद समाप्त हुए इसके बाद फिर[ वोही पुराना राग] अघोषित राष्ट्रभाषा अंग्रेज़ीमें सर्कुलर बांटने की लीक पीटनी शुरू हो गयी

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिंदी दिवस की शुभ कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका पोस्ट सराहनीय है. हिंदी दिवस की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिंदी दिवस पर लिखा आपका ये आलेख ज्ञानवर्धक है . आज भी कई यही समझते हैं कि हिंदी राष्ट्रभाषा है . हमारे देश की बदनसीबी है कि आज़ाद भारत की भाषा के नाम पर कोई पहचान नहीं .
    हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ और आलेख के लिए बधाई स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top