4
Advertisement
एक दिन हँसी में बादशाह अकबर ने कहा - बीरबल ! तुम्हारी स्त्री बड़ी रूपवती है . बीरबल ने कहा - " सच है जहाँपनाह ! जब से मैंने बेगम साहिबा को देखा है तब से उसकी सुन्दरता को भूल गया हूँ . " अकबर यह सुनकर पानी पानी हो गए .

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top