4
Advertisement
मेरे नदीम मेरे हमसफ़र उदास न हो
कठिन सही तेरी मंजिल मगर उदास न हो

कदम कदम पे चट्टानें खडी रहें लेकिन
जो चल निकले हैं दरिया तो फिर नहीं रुकते
हवाएँ कितना भी टकराएँ आँधियाँ बनकर
मगर घटाओं के परचम कभी नहीं झुकते
मेरे नदीम मेरे हमसफ़र ......

हर इक तलाश के रास्ते में मुश्किलें हैं मगर
हर इक तलाश मुरादों के रंग लाती है
हजारों चाँद सितारों का ख़ून होता है
तब एक सुबह फ़िजाओं पे मुस्कुराती है
मेरे नदीम मेरे हमसफ़र ......

जो अपने खून को पानी बना नहीं सकते
वो जिंदगी में नया रंग ला नहीं सकते
जो रास्ते के अँधेरों से हार जाते हैं
वो मंजिलों के उजाले को पा नहीं सकते
मेरे नदीम मेरे हमसफ़र

विडियो के रूप में देखें :-

एक टिप्पणी भेजें

  1. जो रास्ते के अँधेरों से हार जाते हैं
    वो मंजिलों के उजाले को पा नहीं सकते
    मेरे नदीम मेरे हमसफ़र...
    आभार ...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कदम कदम पे चट्टानें खडी रहें लेकिन
    जो चल निकले हैं दरिया तो फिर नहीं रुकते

    Nayaab!

    उत्तर देंहटाएं
  3. mujhe jo jaankari chahiye thi wo kahi na mil rahi thi lekin hindikunj ne mujhe jodiya hai uska jawab me shabdo se nahi de sakta. GOVIND MISHRA, INDORE M.P.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top