1
Advertisement
क्या मोल है मेरे आँसू के
दुनिया के लिए  ये फर्जी हैं 
संकेत  मेरे मन के हैं ये
जिस पर नहीं मेरी मर्जी है
आक्रोश तो आँसू आते हैं 
दुखी ह्रदय  भी नम कर जाते हैं 
खुशियों में  भी अनायास
कुछ बात ये कह जाते हैं 
ये बातें हैं  ,निजी हैं अनुभव
जुड़ी इससे मेरे हर्ष और विषाद
हर आँसू से झंकृत  होते
मेरे अस्तित्व के अंतर्नाद
मैं हर आंसू के अनुभव को
नित नए अर्थ दे जाता हूँ 
फर्जी ही सही  तेरी नज़रों में 
मैं आगे कदम  बढ़ाता हूँ 
ये मौन अभिव्यक्ति ही सही 
 निःशब्द निवेदन  मन की है 
ये अश्रु पूर्ण  मेरे नैनों में 
शक्ति अपार सृजन की है ...................... 

 

एक टिप्पणी भेजें

  1. स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आपको बहुत बहुत बधाई .कृपया हम उन कारणों को न उभरने दें जो परतंत्रता के लिए ज़िम्मेदार है . जय-हिंद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top