1
Advertisement
जिंदगी ललक थी ; किन्तु भारी जुआ बना गयी ,
जिंदगी फलक थी किन्तु अँधा कुआँ बन गयी ,
कल्पनाओं रची ,भावनाओं भरी ,रूप - श्री
जिंदगी ग़ज़ल थी ,बिफर कर बद्दुआ बन गयी !

एक टिप्पणी भेजें

  1. महेंदर जी
    सदा सुखी रहो
    आपकी कविता की चार पंक्तियाँ पढ़ी
    भावपूर्ण ,अतिसुंदर
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top