0
Advertisement

मेरे नाम उसने है ख़त लिखा,मैं लिखूं क्या उसको जवाब में।

वो दीवाना मेरा है हो गया, न सोचा था जिसको ख़्वाब में॥

मासूम चहरे की असलियत, मैं देख कर घबरा गई।

देखा करीब से जब उसे, काँटे थे कितने गुल़ाब में॥

कहता वो खुद को पाक है,नापाक जिसके ख्याल हैं।

होता है जब भी वो रू-ब-रू,मिलता हमें है नक़ाब में॥

इक हसीं पल की याद में,जाने कितने ग़म मैं भुला चुकी।

जिन्हें ग़म ने अपना बना लिया,गए डूब सारे शराब में॥

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top