6
Advertisement

रिमझिम रिमझिम वर्षा से,
जब तन मन भीगा जाता है,
राग अलग सा आता है मन में,
और गीत नया बन जाता है I 

कोशिश करता है कोई शब्दों कि,
कोई मन ही मन गुनगुनाता है,
कोई लिए कलम और लिख डाले सब कुछ,
कोई भूल सा जाता है I 

सावन का मन भावन मौसम,
हर तन भीगा जाता है,
झींगुर, मेढक करते शोरगुल,
जो सावन गीत कहलाता है I 

हरियाली से मन खुश होता,
तन को मिलती शीत बयार,
ख़ुशी ऐसी मिलती सब को,
जैसे मिल गया हो बिछड़ा यार I 

गाड़ गधेरे, नौले धारे सब,
पानी से भर जाते है,
नदिया करती कल कल,
और पंछी सुर में गाते है I 

"सावन की  बूदों" का रस,
तन पर जब पड जाता है,
रोम रोम खिल जाता है सबका,
स्वर्ग यही मिल जाता है I

एक टिप्पणी भेजें

  1. shabda bhav ati syndar............koshish achchha hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. गाड़ गधेरे, नौले धारे सब padh kar phir pahadon ki yaad aa gayi. Badhai!

    उत्तर देंहटाएं
  3. its not that bad. but i ws expectng a style of d old hindi poets. yours is nice too

    उत्तर देंहटाएं
  4. अति सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top