3
Advertisement

कृष्ण और कंश

सृजन और विध्वंश

एक ही सिक्के के दो रूप हैं

विनाश के परिपाटी पे ही

सृजन लेता मूर्त स्वरुप है

हमारे विचार भी कृष्ण और कंश के समान हैं

चलता अंतर्मन में निरंतर युद्ध

मरता कंश और बचता कृष्ण विशुद्ध

पर सार एक है

बीज के मौत पर अंकुर आता है

पर कहाँ बीज अपने मौत का मातम मनाता है

ठीक वैसे ही कृष्ण आते हैं

हमारे मानस पटल पर विश्वास बीज बो जाते है

होने दो इस विश्वास बीज को अंकुरित

विनाश के क्रंदन में छिपा है विकास का सृजन गीत..........

एक टिप्पणी भेजें

  1. विनाश के क्रंदन में छिपा है विकास का सृजन गीत.. सत्य। सुन्दर रचना…।बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गज़ब का चिन्तन्………………बेहतरीन, लाजवाब रचना।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top