8
Advertisement
संता एक बियावान जगह में बैठा रो रहा था।
बंता ने पूछाः यार संता तुम क्यों रो रहे हो?
संताः यार एक लड़की को भूलने की कोशिश कर रहा हूं।
बंताः इसमें रोने की क्या बात है?
संताः जिस लड़की को भूलने की कोशिश कर रहा हूं, उसका नाम याद नहीं आ रहा . 



********************************************************************************************
चिंटू (पिंटू से )- मुझे न एक आदमी बोल रहा था कि उसका घर इतना बड़ा है कि घर के अंदर ही लोकल ट्रेन चलती है।
पिंटू- फिर तूने क्या कहा?
चिंटू- मैंने भी कह दिया !…कि मेरा घर इतना बड़ा है कि एक कोने से दूसरे में जाओ तो रोमिंग लगती है



******************************************
मैनेजर ने आने वाले से पूछा, " क्या तुम्हें पता नही कि आज्ञा के बिना अन्दर आना मना है।"
आने वाला, "जनाब मैं आज्ञा लेने के लिए ही अन्दर आया हूं।"


एक टिप्पणी भेजें

  1. आप का हिंदी कुंज सराहनीय ब्लॉग है ,पर आज अलग कुछ आन्नदम्र2

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाई कुछ हल्के फ़ुल्के लतीफ़े मन को प्रसन्न कर देते हैं। काम के बोझ का मारा इन्हे चाहिये लतीफ़ों का सहारा। मजा आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे ही गुदगुदाते रहिए
    धऩ्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top