1
Advertisement
टिकी नहीं है

शेषनाग के फन पर धरती !

हुई नहीं है उर्वर

महाजनों के धन पर धरती !

सोना-चाँदी बरसा है

नहीं ख़ुदा की मेहरबानी से,

दुनिया को विश्वास नहीं होता है

झूठी ऊलजलूल कहानी से !
.

सारी ख़ुशहाली का कारण,

दिन-दिन बढ़ती

वैभव-लाली का कारण,

केवल श्रमिकों का बल है !

जिनके हाथों में

मज़बूत हथौड़ा, हँसिया, हल है !

जिनके कंधों पर

फ़ौलाद पछाड़ें खाता है,

सूखी हड्डी से टकराकर

टुकड़े-टुकड़े हो जाता है !
.
इन श्रमिकों के बल पर ही

टिकी हुई है धरती,

इन श्रमिकों के बल पर ही

दीखा करती है

सोने-चाँदी की भरती !
.

इनकी ताक़त को

दुनिया का इतिहास बताता है !

इनकी हिम्मत को

दुनिया का विकसित रूप बताता है !

सचमुच, इनके क़दमों में

भारीपन खो जाता है !

सचमुच, इनके हाथों में

कूड़ा-करकट तक आकर

सोना हो जाता है।
.
इसीलिए

श्रमिकों के तन की क़ीमत है !

इसीलिए

श्रमिकों के मन की क़ीमत है !
.

श्रमिकों के पीछे दुनिया चलती है ;

जैसे पृथ्वी के पीछे चाँद

गगन में मँडराया करता है !

श्रमिकों से

आँसू, पीड़ा, क्रंदन, दुःख-अभावों का जीवन

घबराया करता है !

श्रमिकों से

बेचैनी औ बरबादी का अजगर

आँख बचाया करता है !
.
इनके श्रम पर ही निर्मित है

संस्कृति का भव्य-भवन,

इनके श्रम पर ही आधारित है

उन्नति-पथ का प्रत्येक चरण !
.

हर दैविक-भौतिक संकट में

ये बढ़ कर आगे आते हैं,

इनके आने से

त्रस्त करोड़ों के आँसू थम जाते हैं !

भावी विपदा के बादल फट जाते हैं !

पथ के अवरोधी-पत्थर हट जाते हैं !

जैसे विद्युत-गतिमय-इंजन से टकरा कर

प्रतिरोधी तीव्र हवाएँ

सिर धुन-धुन कर रह जाती हैं !

पथ कतरा कर बह जाती हैं !
.

श्रमधारा कब

अवरोधों के सम्मुख नत होती है ?

कब आगे बढ़ने का

दुर्दम साहस क्षण भर भी खोती है ?

सपनों में

कब इसका विश्वास रहा है ?

आँखों को मृग-तृष्णा पर

आकर्षित होने का

कब अभ्यास रहा है ?
.

श्रमधारा

अपनी मंज़िल से परिचित है !

श्रमधारा

अपने भावी से भयभीत न चिंतित है !
.

श्रमिकों की दुनिया बहुत बड़ी !

सागर की लहरों से लेकर

अम्बर तक फैली !

इनका कोई अपना देश नहीं,

काला, गोरा, पीला भेष नहीं !

सारी दुनिया के श्रमिकों का जीवन,

सारी दुनिया के श्रमिकों की धड़कन

कोई अलग नहीं !

कर सकती भौगोलिक सीमाएँ तक

इनको विलग नहीं !

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत ही अच्छे ढंग से श्रमिक महात्म्य का वर्णन। शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top