0
Advertisement
ऐश से गुज़री कि ग़म के साथ अच्‍छी निभ गयी
निभ गयी जो उस सनम के साथ अच्छी निभ गयी

दोस्‍ती उस दुश्‍मने-जाँ ने निबाही तो सही
 गो निभी ज़ुल्‍मो-सितम के साथ अच्‍छी निभ गयी

ख़ूब गुज़री गरचे औरों की निशातो-ऐश में
अपनी भी रंजो-अलम के साथ अच्‍छी निभ गयी

बूए-गुल क्‍या रह के करती, गुल ने रहकर क्‍या किया !
बस नसीमे-सुबहदम के साथ अच्‍छी निभ गयी

शुक्र-सद शुक्र अपने मुँह से जो निकाली मैंने बात
ऐ ज़फ़र उसके करम के साथ अच्‍छी निभ गयी

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top