1
Advertisement
मैं पिक बन गाती डाल-डाल ,
तू आता रहें हर बार - बार,
तुझे देखती रहू मैं भर नजर,
तू कहे तडपे मुझे हाल - हाल॥

तू आने से सृष्टि भर जाती नव ज्वार
रोमांचित होता कण - कण,
उल्हसीत होता गीत-गुंजन,
तू आया करें बस मेहरनज़र॥

आषाढ़ तू हैं, ग्रीष्म तू हैं,
मनभावन का श्रीकृष्ण तू हैं,
तेरे आने से बने सृष्टि नववधू,
बस आए अब तू हे जलासिंधू॥
---------------------------


यह कविता नेत्रा देशपाण्डेय द्वारा लिखी गयी है,जो कि एम.ए (हिंदी) की छात्रा है। आप हिंदी के साथ- साथ मराठी भाषा में भी कविता लिखती है।






एक टिप्पणी भेजें

  1. tuzi kavita aali khup aanand zala
    aashach kavita tuzy blok var yeot
    hich subhecha
    Regards
    PRANAV KULKARNI

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top