0
Advertisement
मैं पिक बन गाती डाल-डाल ,
तू आता रहें हर बार - बार,
तुझे देखती रहू मैं भर नजर,
तू कहे तडपे मुझे हाल - हाल॥

तू आने से सृष्टि भर जाती नव ज्वार
रोमांचित होता कण - कण,
उल्हसीत होता गीत-गुंजन,
तू आया करें बस मेहरनज़र॥

आषाढ़ तू हैं, ग्रीष्म तू हैं,
मनभावन का श्रीकृष्ण तू हैं,
तेरे आने से बने सृष्टि नववधू,
बस आए आब तू हे जलासिंधू॥
---------------------------

यह कविता नेत्रा देशपाण्डेय द्वारा लिखी गयी है,जो कि एम.ए (हिंदी) की छात्रा है। आप हिंदी के साथ- साथ मराठी भाषा में भी कविता लिखती है।





एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top