1
Advertisement
एक बार तानसेन ने डाह में आकर दरबार के एक बड़े गवैये को जहर देकर मरवा डाला। बादशाह को जब पता चला तो उन्हें बड़ा दुःख हुआ। उन्होंने तुरंत तानसेन को हाज़िर होने का हुक्म दिया । हथकड़ी पहने तानसेन अपराधी के कटघरे में हाज़िर किये गए। बादशाह ने रोष में कहा - तुमने बड़ा जघन्य अपराध किया है। मेरे जीवन का आधा आनंद तुमने नष्ट कर दिया । अतः तुम्हे मृत्यु दंड का हुक्म देता हूँ। पास ही बीरबल बैठे थे ,उन्हें तानसेन के मृत्यु दंड के हुक्म से बड़ा दुःख हुआ । उन्होंने कहा - जहाँपनाह ! इसने आपके जीवन का आधा मज़ा किरकिरा कर दिया तो इसे मृत्यु दंड मिला और आपने तो इसके सम्पूर्ण आनंद को नष्ट कर दिया । बादशाह विचार में पड़ गए और कुछ सोच कर अपनी आज्ञा वापिस ले ली तथा तानसेन को मुक्त कर दिया ।

एक टिप्पणी भेजें

  1. मजा आ गया।
    ---------
    क्या आप बता सकते हैं कि इंसान और साँप में कौन ज़्यादा ज़हरीला होता है?
    अगर हाँ, तो फिर चले आइए रहस्य और रोमाँच से भरी एक नवीन दुनिया में आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top