0
Advertisement

गुल को महबूब में क़यास किया
फ़र्क़ निकला बहोत जो बास किया

दिल ने हम को मिसाल-ए-आईना
एक आलम से रू-शिनास किया

कुछ नहीं सूझता हमें उस बिन
शौक़ ने हम को बे-हवास किया

सुबह तक शमा सर को ढुँढती रही
क्या पतंगे ने इल्तेमास किया

ऐसे वहाशी कहाँ हैं अए ख़ुबाँ
'मीर' को तुम ने अबस उदास कि

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top