2
Advertisement

गडरिये कितने सुखी हैं ।

न वे ऊँचे दावे करते हैं

न उनको ले कर

एक दूसरे को कोसते या लड़ते-मरते हैं।

जबकि

जनता की सेवा करने के भूखे

सारे दल भेडियों से टूटते हैं।

ऐसी-ऐसी बातें

और ऐसे शब्द सामने रखते हैं

जैसे कुछ नहीं हुआ है

और सब कुछ हो जाएगा ।

जबकि

सारे दल

पानी की तरह धन बहाते हैं,

गडरिये मेडों पर बैठे मुस्कुराते हैं

– भेडों को बाड में करने के लिए

न सभाएँ आयोजित करते हैं

न रैलियाँ,

न कंठ खरीदते हैं, न हथेलियाँ,

न शीत और ताप से झुलसे चेहरों पर

आश्वासनों का सूर्य उगाते हैं,

स्वेच्छा से

जिधर चाहते हैं ,उधर

भेडों को हाँके लिए जाते हैं ।

गडरिये कितने सुखी हैं ।

एक टिप्पणी भेजें

  1. आश्वासनों का सूर्य उगाते हैं,

    स्वेच्छा से

    जिधर चाहते हैं ,उधर

    भेडों को हाँके लिए जाते हैं ।

    गडरिये कितने सुखी हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. shiksha par koi kavita ho to bataiye plz

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top