1
Advertisement

चलते हो तो चमन को चलिये
कहतए हैं कि बहाराँ है

पात हरे हैं फूल खिले हैं
कम कम बाद-ओ-बाराँ है

आगे मैख़ाने को निकलो
अहद-ए-बादा गुज़ाराँ है

लोहु-पानी एक करे ये
इश्क़-ए-लालाअज़ाराँ है

इश्क़ में हमको "मीर" निहायत
पास-ए-इज़्ज़त-दाताँ है


एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top