0
Advertisement

जूही मेरे आँगन में महकी,
रंग-बिरंगी आभा से लहकी !

चमकीले झबरीले कितने
इसके कोमल-कोमल किसलय,
है इसकी बाँहों में मृदुता
है इसकी आँखों में परिचय,

भोली-भोली गौरैया चहकी
लटपट मीठे बोलों में बहकी !

लम्बी लचकीली हरिआई
डालों डगमग-डगमग झूली,
पाया हो जैसे धन स्वर्गिक
कुछ-कुछ ऐसी हूली-फूली,

लगती है कितनी छकी-छकी
गह-गह गहनों-गहनों गहकी !

महकी, मेरे आँगन में महकी
जूही मेरे आँगन में महकी !

(पौत्री इरा के प्रति।)

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top