23
Advertisement

हिन्दी सीखें

हिंदी भारत में सबसे अधिक बोले जाने वाली भाषाओं में से एक है । भारत के बाहर भी हिंदी भाषा बोली व पढ़ी जाती है। हिंदी भाषाभाषी लोगों के लिए हिंदी आसान है ,लेकिन अहिन्दी भाषी लोगों के लिए हिंदी कठिन हो जाती है। अत : इस स्थिति में उन्हें हिंदी भाषा सीखना पड़ता है। अत : हिंदी कुंज में इस बात को ध्यान में रखते हुए ,एक ई -बुक प्रस्तुत की जा रही है। इसके माध्यम से आप न केवल हिंदी लिखना सीख पायेंगे बल्कि बोलना भी सीख जायेंगे । इस ई बुक के माध्यम से हिंदी में वर्णमाला ,वाक्य रचना ,शब्द बनाना ,ध्वनि ,व्याकरण आदि बहुत ही आसानी से सीख जायेंगे । इसके साथ इसमें बहुत सारी अभ्यासमालाएँ भी दी गयी है ,जिसके माध्यम से आप अपनी परीक्षा खुद ले सकते है । यह पुस्तक अहिन्दी भाषी लोगों के लिए हिंदी सीखने में बहुत मददगार सिद्ध होगी ।


एक टिप्पणी भेजें

  1. धन्यवाद!!
    .
    .
    ऐसे मनाये महिला दिवस

    सर्वसाधारण के हित में >> http://sukritisoft.in/sulabh/mahila-diwas-message-for-all-from-lata-haya.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. मै छ्त्तीस्गढ़ मे रह्ता हु हिन्दी कुन्ज अद्भुत साइट है

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी वेबसाइट के तो क्या कहने?
    इससे उत्तम हिन्दी की जानकारी प्राप्त करने के लिए कोई और वेबसाइट इंटरनेट पर उपलब्ध ही नही है|
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी वेबसाइट के तो क्या कहने?
    इससे उत्तम हिन्दी की जानकारी प्राप्त करने के लिए कोई और वेबसाइट इंटरनेट पर उपलब्ध ही नही है|
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी वेबसाइट के तो क्या कहने?
    इससे उत्तम हिन्दी की जानकारी प्राप्त करने के लिए कोई और वेबसाइट इंटरनेट पर उपलब्ध ही नही है|
    आपको बहुत-बहुत धन्यवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी वेबसाइट से मुझे हिन्दी के विषय मे बहुत जानकारी मिली जिसके लिए आपका हार्दिक धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. hindi kunj ke kya kehne , esa adhbhut hindi site shayd hi internet ki duniya mein milega jismein har tarh ki rachna or puri jaankari milti hai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. santoshkumarआपकी वेबसाइट के तो क्या कहने?

    उत्तर देंहटाएं
  9. हिंदी में लिखने के लिए
    http://www.google.com/transliterate

    उत्तर देंहटाएं
  10. http://www.google.com/transliterate

    हिंदी में लिखने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  11. AAj mai 1st time is site pe dainik bhaskar newspaper ki vajah se aaya .. mujhe bahut pasand aaya .(26/06/2011)

    उत्तर देंहटाएं
  12. esa adhbhut hindi site shayd hi internet ki duniya mein milega jismein har tarh ki rachna or puri jaankari milti hai.I like hinde kung.Ramanlal soni.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी वेबसाइट से मुझे हिन्दी के विषय मे बहुत जानकारी मिली जिसके लिए आपका हार्दिक धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  14. hindikunj ek bahut hi achhi site hai, jaha se hame hindi sahitya ki puri jankari mil jati hai

    उत्तर देंहटाएं
  15. My Problem Words Difficulty Ex. bakrai Bha- van ka -vha, rua-chota rua-bada, Please Solution pramodjain75@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. Mujhe to abhi tak is ka gyan hi nahi tha , a wonderful site pl share with more people

    उत्तर देंहटाएं
  17. हिन्दी कहानी : एक अध्ययन

    जीतेन्द्र जीत



    हिन्दी अकादमी, दिल्ली ने 'तीन पीढ़ी : तीन दिन' कार्यक्रम के अंतर्गत सोमवार, 6 अगस्त 2012 को सायं 5.30 बजे 'कहानी पाठ' का आयोजन किया। तीन पीढ़ी से- नयी पीढ़ी के विवेक मिश्र, द्वितीय पीढ़ी से चित्रा मुदगल और तीसरी पीढ़ी से कथा वाचन में राजेंद्र यादव थे।

    1. विवेक मिश्र की कहानी का शीर्षक 'ए गंगा तुम बहती हो क्यों' सुनकर लगा कि लेखक कुछ
    तथ्य की बातें कहना चाहता है लेकिन कहानी इसका पुष्टि नहीं करती।

    2. चित्रा मुदगल की कहानी 'बेईमान', पढ़े-लिखे और आधुनिक कहलानेवाले लोगों का व्यवहार,
    कई प्रश्न उपस्थित करती है।
    3. राजेंद्र यादव अपनी पाँच छोटी-छोटी व्यंग्य एवं अन्य कहानी सुनाये।

    यदि आपको लगे कि अपनी या अध्ययन की गयी उत्कृष्ट कहानी रचनात्मक
    प्रशिक्षण के दृष्टिकोण से उपयुक्त है,तो भेजें। यहाँ आपके द्वारा उसकी चर्चा
    की जाएगी।

    शीघ्र शुरू होने जा रही 'हिन्दी कहानी : एक अध्ययन' कथा गोष्ठी में भाग लेने के लिए आप
    सादर आमंत्रित हैं। अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें- मो. 09654148379 / 09717725718
    www.kamalahindi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  18. http://yourstorywriting.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  19. mai to itna hi kahunga ki if you love india then should be love this website

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top