0
Advertisement
तुम जो पल को ठहर जाओ तो ये लम्हें भी
आनेवाले लम्हों की अमानत बन् जायेँ
तुम जो ठहर जाओ तो ये रात, महताब
ये सब्ज़ा, ये गुलाब और हम दोनों के ख़्वाब
सब के सब ऐसे मुबहम हों कि हक़ीक़त हो जायेँ
तुम ठहर जाओ कि उनवान की तफ़सीर हो तुम
तुम से तल्ख़ी-ए-औक़ात का मौसम बदले
रात तो क्या बदलेगी, हालत तो क्या बदलेंगे
तुम जो ठहर जाओ तो मेरी ज़ात का मौसम बदले
महार्बाँ हो के न ठहरो तो फिर यूँ ठहरो
जैसे पल भर को कोई ख़्वाब-ए-तमन्ना ठहरे
जैसे दरवेश-ए-मदा-नोश के प्याले में कभी
एक दो पल के लिये तल्ख़ी-ए-दुनिया ठहरे
ठहर जाओ के मदारत मैखाने से
चलते चलते कोई एक-आध सुबू हो जाये
इस से पहले के कोई लम्हा आइन्दा क तीर
इस तरह आये के पेवस्त-ए-गुलू हो जाये

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top