0
Advertisement
सबसे पहले वे ’भारत टाकीज’ गए। हाउस फुल हो चुका था, ब्लैक में भी टिकट नहीं मिल रही है। वे स्कूटर पर बैठे और ’रंग महल’ की तरफ आए लेकिन वहाँ वे निश्चित नहीं कर सके कि फिल्म कैसी होगी ? अभी समय था वे तीसरी टाकीज की तरफ गए और टिकट खरीदकर बैठ गए। मजा नहीं आ रहा था । बोर फिल्म थी। वे बाहर आ गए। सोचा कि कहीं सेकंड शो देखेंगे। वे ’कल्पना’ की ओर गए, फिर वहाँ से ’कृष्णा’ की ओर।
उपदेश : उचित आदर्श एवं मार्गदर्शन के अभाव में नई पीढ़ी भटक रही है। साथ ही एक बात और है- अवसर की कमी।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top