1
Advertisement
आरज़ूएं हज़ार रखते हैं
तो भी हम दिल को मार रखते हैं


बर्क़ कम हौसला है हम भी तो
दिल एक बेक़रार रखते हैं


ग़ैर है मूराद-ए-इनायत हाए
हम भी तो तुम से प्यार रखते हैं


न निगाह न पयाम न वादा
नाम को हम भी यार रखते हैं


हम से ख़ुश ज़म-ज़मा कहाँ यूँ तो
लब-ओ-लहजा हज़ार रखते हैं


छोटे दिल के हैं बुताँ मशहूर
बस यही ऐतबार रखते हैं


फिर भी करते हैं "मीर" साहिब इश्क़
हैं जवाँ इख़्तियार रखते हैं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top