3
Advertisement
जीवन-भर
अजीबोगरीब मूर्खताएँ
करने के सिवा,
समाज का
थोपा हुआ कर्ज़
भरने के सिवा,
क्या किया?
ग़लतियाँ कीं
ख़ूब ग़लतियाँ कीं,
चूके
बार-बार चूके!
यों कहें -
जिये;
लेकिन जीने का ढंग
कहाँ आया?
(ढोंग कहाँ आया!)
और अब सब-कुछ
भंग-रंग
हो जाने के बाद _
दंग हूँ,
बेहद दंग हूँ!
विवेक अपंग हूँ!
विश्वास किया
लोगों पर,
अंध-विश्वास किया
अपनों पर!
और धूर्त
साफ़ कर गये सब
घर-बार,
बरबाद कर गये
जीवन का
रूप-रंग सिँगार!
छद्म थे, मुखौटे थे,
सत्य के लिबास में
झूठे थे,
अजब ग़ज़ब के थे!
ज़िन्दगी गुज़र जाने के बाद,
नाटक की
फल-प्राप्ति / समाप्ति के क़रीब,
सलीब पर लटके हुए
सचाई से रू-ब-रू हुए जब _
अनुभूत हुए
असंख्य विद्युत-झटके
तीव्र अग्नि-कण!
ऐंठते
दर्द से आहत
तन-मन!
हैरतअंगेज़ है, सब!
सब, अद्भुत है!
अस्तित्व कहाँ हैं मेरा,
मेरा बुत है!
अब,
पछतावे का कड़वा रस
पीने के सिवा
बचा क्या?
ज़माने को
न थी, न है
रत्ती-भर
शर्म-हया!

एक टिप्पणी भेजें

  1. "अनुभवयुक्त कविता या कहें एक यथार्थ भरा शाब्दिक कोलाज.. "
    प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह कविता बच्चों की समझ से बाहर की चीज़ है!
    इसका लिंक "नन्हा मन" पर प्रकाशित नहीं किया जाना चाहिए था,
    पर इसे वहाँ एक बार नहीं दो-दो बार प्रकाशित किया गया है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'नन्हा मन' मेरी प्रोफ़ाइल पर न जाने कैसे आ गया!!
    कविता को अपने ब्लॉग पर लेना चाहता था; दोनों बार 'नन्हा मन' पहुँच गयी। कैसे हटाऊँ??
    *महेंद्रभटनागर, ग्वालियर
    फ़ोन : ०७५१-४०९२९०८

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top