0
Advertisement


महेंद्रभटनागर की कविताएँ एक ऐसे कवि के रचना-कर्म की फलश्रुति हैं; अपने अब-तक के आयुष्य के छह दशकों तक अपने समय से सीधे आँखें मिलाते हुए जिसने उसके एक-एक तेवर को पहचाना और शब्दों में बाँधा है। इन कविताओं में समय के बहुरूपी तेवर ही नहीं, पूरे समय के पट पर, कभी साफ़-सुथरी; परन्तु ज़्यादातर पेचीदा और गड्डमड्ड लिखी हुई उस इबारत का भी खुलासा है जिसे बड़ी शिद्दत से कवि ने पढ़ा-समझा और उसके पूरे आशयों के साथ हम सबके लिए मुहैया किया है।

छह दशकों की सृजन-यात्रा कम नहीं होती। महेन्द्र भटनागर के कवि-मन की सिफ़त इस बात में है कि लाभ-लोभ, पद-प्रतिष्ठा के सारे प्रलोभनों से अलग, अपनी विश्व-दृष्टि और अपने विचार के प्रति पूरी निष्ठा के साथ, अपनी चादर को बेदाग रखते हुए वे नई सदी की दहलीज़ तक अपने स्वप्न और अपने संकल्पों के साथ आ सके हैं।

एक लम्बे रचना-काल का साक्ष्य देती इन कविताओं में सामाजिक यथार्थ की बहु-आयामी और मनोभूमि और मनोभावनाओं की बहुरंगी प्रस्तुति है। इनमें युवा-मन की ऊर्जा, उमंग, उल्लास और ताज़गी है तो उसका अवसाद, असमंजस और बेचैनी भी। ललकार,चेतावनी, उद्बोधन और आह्नान है तो वयस्क मन के पके अनुभव तथा उन अनुभवों की आँच से तपी-निखरी सोच भी है। कहीं स्वरों में उद्घोष है तो कहीं वे संयमित हैं। समय की विरूपता, क्रूरता और विद्रूपता का कथन है तो इस सबके खिलाफ़ उठे प्रतिरोध के सशक्त स्वर भी। समय के दबाव हैं तो उनका तिरस्कार करते हुए मुखर होने वाली आस्था भी। परन्तु इन कविताओं में मूलवर्ती रूप में सारे दुख-दाह और ताप-त्रास के बीच जीवन के प्रति असीम राग की ही अभिव्यक्ति है। आदमी के भविष्य के प्रति अप्रतिहत आस्था की कविताएँ हैं ये,और इस आस्था का स्रोत है कवि का इतिहास-बोध और उससे उपजा उसका 'विज़न'। कवि के उद्बोधनों में, आदमी के जीवन को नरक बनाने वाली शक्तियों के प्रति उसकी ललकार में एवं आदमी के उज्ज्वल भविष्य के प्रति उसकी निष्कम्प आस्था में उसके इस 'विज़न'को देखा जा सकता है।

कविता के नये-नये आन्दोलन उनकी निगाहों के सामने गुज़रते रहे हैं; परन्तु प्रगतिशील आन्दोलन के उदय के साथ उनकी रचना-धर्मिता ने जिस जीवन-धर्मी और जन-धर्मी लय से अपना नाता जोड़ा, उम्र के आठवें दशक में पहुँचे हुए कवि की कविता में वह जीवन-धर्मी और जन-धर्मी लय अपनी पूरी ऊर्जा में जीवित है। फ़र्क इतना ही है कि उम्र के आख़िरी पड़ाव में पहुँचकर कवि ने बाहर की दुनिया के साथ-साथ अपने भीतर की दुनिया में भी झाँका है -- किये-धरे, जिये-भोगे का लेखा-जोखा लिया है, जो स्वाभाविक है। उम्र के इस पड़ाव पर पहुँचे हुए आदमी में जिस तरह कभी-कभार एक दार्शनिक भी बोला करता है, महेंद्रभटनागर के कवि-मन में इस दार्शनिक की पैठ और उसके कहे हुए की अनुगूँज भी कुछ कविताओं में है। महेंद्रभटनागर की कविताएँ वस्तुतः एक परिपक्व रचना-धर्मिता की उपज हैं। वे एक ऐसे रचनाकार से हमें रू-ब-रू करती हैं, जीवन के तमाम उतार-चढ़ावों से जो गुज़र चुका है, बाहर की दुनिया के साथ अपने भीतर की दुनिया को काफ़ी-कुछ थाह-परख चुका है -- और अब प्रकृतिस्थ होकर -- अनुभवों की जो राशि इस क्रम में उसे मिली है-- तथा जो कुछ अपने जिये-भोगे के अलावा अपने देखे-सुने और पढ़े से उसने अर्जित किया है, उसे सबको बाँट देना चाहता है कि लोग उसके बरक्स अपने बाहर-भीतर को जाँचें-परखें। ज़िन्दगी के लम्बे सफ़र में जो कुछ उसे सुखद और प्रीतिकर लगा है, उसे ज़रूर पूरी शिद्दत से समेटते और बचाते हुए, अपनी स्मृतियों में सँजोए वह बार-बार जीना और पाना चाहता है। अप्रीतिकर तथा क्लेशदायक के प्रति भी उसमें आवेग या उद्वेग नहीं है, कारण वह सब भी उसके अनुभवों का हिस्सा है। परन्तु उसे बाहर की दुनिया में वितरित कर उसके भार से ज़रूर वह मुक्त होना चाहता है। उसकी जन-पक्षधरता का, उसकी जन-धर्मी चेतना का दायित्व भी है कि वह समय के उन दंशों की पीड़ा को, समय की उन विरूपताओं और विद्रूपताओं को, आदमियत के तेज़ी से हो रहे क्षरण और उससे उपजी सम्भावित विपदाओं को सामने लाये ताकि उसकी तरह बाक़ी लोग भी उस समय को जानें-पहचानें, जो उनका समय है, और उनके बरक्स उसमें अपनी और अपने हस्तक्षेप की दिशाएँ तय करें। संकलन की कुछ कविताओं में उद्बोधन के ऐसे स्वर हैं, जो ज़रूरी भी थे।




महेंद्रभटनागर की कविता की, शुरूआती दौर से ही, यह विशेषता रही है कि कविताओं में भोगे और अर्जित किये हुए अनुभव-संवेदनों को ही उन्होंने तरज़ीह दी है। किताबी, आयातित या उधार लिया हुआ, उसमें लगभग कुछ भी नहीं है, न रहा है। इसी नाते उनकी अभिव्यक्ति विश्वसनीय भी है और सहज तथा प्रकृत भी। प्रगतिशील आन्दोलन के शुरूआती दौर में जो उफ़ान और आवेग, जो लाउडनेस (Loudness) कविता में थी, उनकी कविता में उसकी अनुगूँजें नहीं आयीं। न तो वे पहले लाउड (Loud) थे और न ही आज हैं। रचनाधर्मी प्रयोग भी उसमें नहीं हैं। वह सीधी और सहज कविता है, फिर भी सपाट और सतही नहीं। चूँकि वह अनुभव-प्रसूत है अतएव उसमें शिल्प के बजाय बात बोली है -- सारगर्भित बात, जिसे किसी भंगिमा की दरकार नहीं, जो अपने कथ्य और उससे जुड़ी संवेदना के बल पर पढ़ने वाले के दिल-दिमाग़ में उतर जाती है। उसकी विशेषता उसकी प्रशांति तथा प्रांजलता है।

महेंद्रभटनागर की इन कविताओं की एक अन्य विशेषता यह भी है कि अपनी जन-धर्मिता, जीवन-धर्मिता तथा बदले और लगातार बदल रहे समय के प्रति जागरूकता बनाए रहते हुए भी वह चैहद्दियों में बँधी नहीं रही। उससे आगे-कुछ ऐसे विषयों की ओर भी वह गयी है जो कविता के सनातन विषय रहे हैं -- मसलन प्रेम और प्रकृति, जीवन और मृत्यु आदि।


इस तरह देखा जाय तो महेंद्रभटनागर प्रगतिशील कवियों की उस पंक्ति के कवि हैं जिनकी रचना-धर्मिता ने प्रगतिशील कविता के फलक को व्यापक बनाया है। बावज़ूद इसके, इन विषयों पर पूर्ववत्र्ती कवियों की मानसिकता के तहत न लिखकर महेंद्रभटनागर के कवि ने उन पर उस मनोभूमि में लिखा है, जिस मनोभूमि में ये विषय केदारनाथ अग्रवाल, त्रिलोचन या नागार्जुन जैसे प्रगतिशील कवियों द्वारा उजागर हुए हैं। महेंद्रभटनागर की प्रकृति-कविताएँ केदार अग्रवाल की कविताओं का स्मरण कराती हैं तो 'स्वकीया' के आलम्बन वाली प्रेम-कविताओं में हमें नागार्जुन, त्रिलोचन, केदार एक साथ दिखायी देते हैं। ये कविताएँ उपर्युक्त कवियों की अनुकृति नहीं, समानता है तो मनोभूमि की।

आज के समय में आदमियत के क्षरण पर, राजनीति की विद्रूपताओं पर, सामाजिक जीवन की विकृतियों और विडम्बनाओं पर भी कवि ने लिखा है। बावज़ूद इसके आदमी के उज्ज्वल भविष्य पर उसे भरोसा है। वह निराश और हताश इस नाते नहीं है कि उसके पास वह इतिहास-दृष्टि है, जो उसे बताती है कि आदमी ज़िन्दा है और ज़िन्दा रहेगा -- हर आपदा-विपदा के बावज़ूद, क्योंकि उसके पास उसके श्रम की शक्ति है, और श्रमजीवी कभी नहीं मरा करता। महेन्द्र भटनागर के कवि-कर्म से कविता की प्रगतिशील धारा समृद्ध हुई है, ऐसा विश्वास के साथ कहा जा सकता है। कुल मिलाकर, महेंद्रभटनागर की कविता धरती और जीवन के प्रति अकुंठ राग की कविता है। वह मानव-जिजीविषा की कविता है, जो मरना नहीं जानती।


-- डा. शिवकुमार मिश्र, वल्लभ-विद्यानगर (गुजरात)



एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top