2
Advertisement
तुम अपनी हो, जग अपना है
किसका किस पर अधिकार प्रिये
फिर दुविधा का क्या काम यहाँ
इस पार या कि उस पार प्रिये ।

देखो वियोग की शिशिर रात
आँसू का हिमजल छोड़ चली
ज्योत्स्ना की वह ठण्डी उसाँस
दिन का रक्तांचल छोड़ चली ।

चलना है सबको छोड़ यहाँ
अपने सुख-दुख का भार प्रिये,
करना है कर लो आज उसे
कल पर किसका अधिकार प्रिये ।

है आज शीत से झुलस रहे
ये कोमल अरुण कपोल प्रिये
अभिलाषा की मादकता से
कर लो निज छवि का मोल प्रिये ।

इस लेन-देन की दुनिया में
निज को देकर सुख को ले लो,
तुम एक खिलौना बनो स्वयं
फिर जी भर कर सुख से खेलो ।

पल-भर जीवन, फिर सूनापन
पल-भर तो लो हँस-बोल प्रिये
कर लो निज प्यासे अधरों से
प्यासे अधरों का मोल प्रिये ।

सिहरा तन, सिहरा व्याकुल मन,
सिहरा मानस का गान प्रिये
मेरे अस्थिर जग को दे दो
तुम प्राणों का वरदान प्रिये ।

भर-भरकर सूनी निःश्वासें
देखो, सिहरा-सा आज पवन
है ढूँढ़ रहा अविकल गति से
मधु से पूरित मधुमय मधुवन ।

यौवन की इस मधुशाला में
है प्यासों का ही स्थान प्रिये
फिर किसका भय? उन्मत्त बनो
है प्यास यहाँ वरदान प्रिये ।

देखो प्रकाश की रेखा ने
वह तम में किया प्रवेश प्रिये
तुम एक किरण बन, दे जाओ
नव-आशा का सन्देश प्रिये ।

अनिमेष दृगों से देख रहा
हूँ आज तुम्हारी राह प्रिये
है विकल साधना उमड़ पड़ी
होंठों पर बन कर चाह प्रिये ।

मिटनेवाला है सिसक रहा
उसकी ममता है शेष प्रिये
निज में लय कर उसको दे दो
तुम जीवन का सन्देश प्रिये ।


एक टिप्पणी भेजें

  1. Bahut sunder bhav avum sandesh liye hai ye rachana bahut pasand aaee .
    ye avsar dene ke liya dhanyvad ..........padane ka...........

    उत्तर देंहटाएं
  2. मान्यवर,
    नमस्कार।

    हिन्दी में समकालीन अभिव्यक्ति को बढ़ावा देने, और भाषा में रुचि व उसके उपयोग को प्रोत्साहित करने के लिए, हमनें एक निःशुल्क हिन्दी ऑनलाइन शब्दखेल - शब्दकोशिश™, का निर्माण किया है। यह हमारी वेबसाइट www.hindi.shabdkoshish.com पर उपलब्ध है। यह शैक्षिक मनोरंजक शब्दखेल, शिष्यों से विशेषज्ञों तक सभी के लिए, आन्नदमय है।
    विश्व की कई सारी भाषाओं की आधुनिक उन्नति में, शब्दखेलों का योगदान महत्वपूर्ण रहा हैं। इसी कारण हमनें हिन्दी में, इस ऑनलाइन शब्दखेल - शब्दकोशिश™, का निर्माण किया है। इस शब्दखेल के द्वारा हिन्दी शब्द ज्ञान को परखने व दर्शाने के साथ-साथ बढ़ाया भी जा सकता है।
    साथ साथ, हिंदी में समकालीन चर्चा को बढ़ावा देने और हिंदी में विविध जानकारी प्रदान करने हेतु, हमने कई लिंक दिये हैं। शब्दकोशिश वेबसाइट पर सदस्यता पंजीकरण निःशुल्क है, साथ ही सदस्य अपना हिन्दी चिट्ठा शुरु कर सकते हैं, और खेल को अपने अनुरूप निर्धारित कर सकते हैं।
    कृपया एक नज़र डालें। आशा है कि, आपको हमारा यह निःशुल्क, शब्दकोशिश™ हिन्दी ऑनलाइन शब्दखेल पसंद आयेगा,और हिन्दी को समकालीन बढ़ावा व प्रोत्साहन देने के इरादे से,आप हमारे इस प्रयास को बढ़ावा देंगे व इसकी चर्चा करने में सहायता करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top