2
Advertisement

दोनों ओर प्रेम पलता है

सखि पतंग भी जलता है दीपक भी जलता है


सीस हिलाकर दीपक कहता

बन्धु वृथा ही तू क्यों दहता

पर पतंग पडकर ही रहता कितनी विह्वलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है


बचकर हाय पतंग मरे क्या

प्रणय छोडकर प्राण धरे क्या

जले नही तो मरा करें क्या क्या यह असफलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है


कहता है पतंग मन मारे

तुम महान मैं लघु पर प्यारे

क्या न मरण भी हाथ हमारे शरण किसे छलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है


दीपक के जलनें में आली

फिर भी है जीवन की लाली

किन्तु पतंग भाग्य लिपि काली किसका वश चलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है


जगती वणिग्वृत्ति है रखती

उसे चाहती जिससे चखती

काम नही परिणाम निरखती मुझको ही खलता है

दोनों ओर प्रेम पलता है

एक टिप्पणी भेजें

  1. बचकर हाय पतंग मरे क्या

    प्रणय छोडकर प्राण धरे क्या

    जले नही तो मरा करें क्या क्या यह असफलता है

    दोनों ओर प्रेम पलता है

    Adwiteey rachanase ru-b-ru karaya hai aapne!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top