10
Advertisement
कभी घूस खाई नहीं, किया न भ्रष्टाचार
ऐसे भोंदू जीव को बार-बार धिक्कार
बार-बार धिक्कार, व्यर्थ है वह व्यापारी
माल तोलते समय न जिसने डंडी मारी
कहँ 'काका', क्या नाम पायेगा ऐसा बंदा
जिसने किसी संस्था का, न पचाया चंदा

एक टिप्पणी भेजें

  1. Wo wyaktika jeevan bhi kya jeevan,jisne kaka ko na padha ho!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह काका जी को पढे बहुत दिन हो गये थे धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  3. kaka ko padh kar hansi na aaye , mood badal na jaye aisa ho nahi sakta .
    kaka mere priya hain. adwitiye hain

    उत्तर देंहटाएं
  4. सरल हास्य में इनका कोई सानी नही।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सरल हास्य में इनका कोई सानी नही।

    उत्तर देंहटाएं
  6. kaka hathrasi ki bahut si rachnaye padhi , inki rachana kaskar byangya ki jo shaili hoti hai vo bilkul hi alag dhang se apna prabhav chhodati hai.
    inke jaisa byangyakar milna ajkal to bahut hi muskil hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. kaka hathrasi ki bahut si rachnaye padhi , inki rachana kaskar byangya ki jo shaili hoti hai vo bilkul hi alag dhang se apna prabhav chhodati hai.
    inke jaisa byangyakar milna ajkal to bahut hi muskil hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top