2
Advertisement

कब वह सुन्‌ता है कहानी मेरी
और फिर वह भी ज़बानी मेरी

ख़लिश-ए ग़म्‌ज़ह-ए ख़ूं-रेज़ न पूछ
देख ख़ूं-नाबह-फ़िशानी मेरी

क्‌या बयां कर के मिरा रोएंगे यार
मगर आशुफ़्‌तह-बयानी मेरी

हूं ज़ ख़्‌वुद-रफ़्‌तह-ए बैदा-ए ख़याल
भूल जाना है निशानी मेरी

मुतक़ाबिल है मुक़ाबिल मेरा
रुक गया देख रवानी मेरी

क़द्‌र-ए सन्‌ग-ए सर-ए रह रख्‌ता हूं
सख़्‌त अर्‌ज़ां है गिरानी मेरी

गिर्‌द-बाद-ए रह-ए बेताबी हूं
सर्‌सर-ए शौक़ है बानी मेरी

दहन उस का जो न म`लूम हुआ
खुल गई हेच-मदानी मेरी

कर दिया ज़ु`फ़ ने `आजिज़ ग़ालिब
नन्‌ग-ए पीरी है जवानी मेरी

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत सुंदर पंक्तियाँ.....

    आपका आभारी हूँ .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत आभार इसे प्रस्तुत करने का.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top