3
Advertisement
सावन-भादों साठ ही दिन हैं फिर वो रुत की बात कहाँ
अपने अश्क मुसलसल बरसें अपनी-सी बरसात कहाँ

चाँद ने क्या-क्या मंज़िल कर ली निकला, चमका, डूब गया
हम जो आँख झपक लें सो लें दिल हमको रात कहाँ

पीत का कारोबार बहुत है अब तो और भी फैल चला
और जो काम जहाँ को देखें, फुरसत दे हालात कहाँ

क़ैस का नाम सुना ही होगा हमसे भी मुलाक़ात करो
इश्क़ो-जुनूँ की मंज़िल मुश्किल सबकी ये औक़ात कहाँ



विडियो के रूप में देखें :- 


एक टिप्पणी भेजें

  1. इंशा जी ग़ज़लों का क्या कहना...एक से बढ़ कर कर...बेहतरीन प्रस्तुति...शुक्रिया हम तक पहुँचाने का...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. Is adwiteey rachna ko padhwane ke liye bahut bahut aabhar...man khil gaya padhkar..

    उत्तर देंहटाएं
  3. insa ji ki gazalon ne abhibhut kar diya.bhut khoob!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top